Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐

##मणिकर्णिका
##प्रॉमिस तो ईश्वर के लिए है
##तुम ईश्वर हो क्या?
##चलो माना तो।
##कोई भाव नहीं,कैसा भी
##कभी प्रायश्चित किया क्या?
##लिखना मेरा नशा है।
##ऐसे ही लिखेंगे
##दैनिक गीत लिखता हूँ।

इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है,
आज़माने पर हर्ज़ होगा ही,
नसीहत कभी उनसे मिली ही नहीं,
नहीं कभी मेरे हाथ पर हाथ फेरा,
बहुत कुछ लुटाया मैंने, उन्होंने देखा नहीं,
फिर क्यों डाले रहे मेरे दिल पर घेरा?
इश्क़ में अश्क़ गिरना भी शर्त है,
आज़माने पर हर्ज़ होगा ही।।1।।
कभी मिले तो मुबारक जरूर देंगे,
सभी गमों और खुशियों का हिसाब देंगे,
तुम भी करना अपने सवाल जबाब,
तुम्हारे हाथों से ही गुलाब लेंगें,
इश्क़ में इन्तजार भी शर्त है,
आज़माने पर हर्ज़ होगा ही।।2।।
वो पतझड़ लगे न मुस्कुराए तो,
क्या कहें वो कभी आएँ जाएँ तो?
मंजिल भी तय करते ग़र साथ देते,
क्या बचा है कभी उनसे मिले तो?
इश्क़ में नींद न आना भी शर्त है,
आज़माने पर हर्ज़ होगा ही।।3।।
कोई अजाब नहीं है सच मानो,
बहुत बैचेन हूँ मैं सच मानो,
अब से सावन जलायेंगे मुझे,
तुम भी कैसे बचोगे सच मानो,
इश्क़ में रोना मुस्कुराना भी शर्त है,
आज़माने पर हर्ज़ होगा ही।।4।।

फ़क़्र-कंगाली, साधुता, निर्धनता
अज़ाब-दुःख,कष्ट,यातना, तकलीफ़

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
50 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
Dr Archana Gupta
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
Dr. Pratibha Mahi
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तेरे बिना
तेरे बिना
Shekhar Chandra Mitra
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
मैं जिसको ढूंढ रहा था वो मिल गया मुझमें
Aadarsh Dubey
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
सूर्यकांत द्विवेदी
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वयं का बैरी
स्वयं का बैरी
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-400💐
💐प्रेम कौतुक-400💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"मदद"
*Author प्रणय प्रभात*
होली रो यो है त्यौहार
होली रो यो है त्यौहार
gurudeenverma198
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
130 किताबें महिलाओं के नाम
130 किताबें महिलाओं के नाम
अरशद रसूल /Arshad Rasool
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
Vishal babu (vishu)
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
2292.पूर्णिका
2292.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
Ravi Prakash
मेरा लेख
मेरा लेख
Ankita Patel
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
चाह और आह!
चाह और आह!
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
सुना है सपने सच होते हैं।
सुना है सपने सच होते हैं।
Shyam Pandey
जीवन के दिन थोड़े
जीवन के दिन थोड़े
Satish Srijan
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
तीन दोहे
तीन दोहे
Vijay kumar Pandey
प्रकृति से हम क्या सीखें?
प्रकृति से हम क्या सीखें?
Rohit Kaushik
Loading...