Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

🐾🐾अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ🐾🐾

##वैधव्य##
##मणिकर्णिका##
##हे बौनी, हे बौने कुछ असर मालूम पड़ रहा है##
##शान्त बिखराब, एक दम शान्त बिखराब##
##तेरे रक्त से प्रेत नहाएंगे##
##मणिकर्णिका पर नाचना, बौनी,डेढ़ फुटिया##
##हे बौने,तू अपने दिन गिन##
##नमूने कैसे हैं##
##छोडूँगा नहीं##

अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ।
अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ।।
हकीक़त की बानगी पर,
तुम्हें तमाशा न कहा था,
तुम्हें रहबर कहा था,
तुम्हें जिन्दगी कहा था,
हर लम्हें के संग तुम्हें सोच रहा हूँ,
अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ।।1।।
कोई सूरत कोई मूरत न बनेगी,
हर इक बात, अपनी बात कहेगी,
छूट गया गया है हाथ, तेरे हाथ से,
कोई मुलाकात अब कैसे बनेगी,
तू दूर है,फिर भी तेरे संग रोज़ रहा हूँ,
अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ।।2।।
मेरी तक़दीर के मायने अलग हैं,
तेरी तस्वीर के मायने अलग हैं,
अब चलेंगे साथ बनकर,
तो ज़माने के आईने अलग हैं,
तू समुन्दर था,मैं तेरी मौज रहा हूँ,
अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ।।3।।
हर बार तुम मिले मुझसे,
मैं भी नई तरक़ीब से मिला,
बीतेंगे तेरे बिन सब सावन,
न अब शिकवा है न कोई गिला,
वास्ते तेरे बने ख़्यालों को अब तोड़ रहा हूँ,
अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ।।4।।
©®अभिषेक: पाराशरः

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 56 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
मौजु
मौजु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
Shubham Pandey (S P)
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
विवादित मुद्दों पर
विवादित मुद्दों पर
*Author प्रणय प्रभात*
पूनम का चांद
पूनम का चांद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"माँ की ख्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
रस्म
रस्म
जय लगन कुमार हैप्पी
मृत्यु
मृत्यु
अमित कुमार
*बुरा न मानो होली है(हास्य व्यंग्य)*
*बुरा न मानो होली है(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
महाराणा प्रताप
महाराणा प्रताप
Satish Srijan
फक़त हर पल दूसरों को ही,
फक़त हर पल दूसरों को ही,
Aksharjeet Ingole
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
Namrata Sona
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
रात का मायाजाल
रात का मायाजाल
Surinder blackpen
कुछ भी रहता नहीं है
कुछ भी रहता नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
'अशांत' शेखर
स्मृतियों का सफर (23)
स्मृतियों का सफर (23)
Seema gupta,Alwar
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
मेहनत तुम्हारी व्यर्थ नहीं होगी रास्तो की
मेहनत तुम्हारी व्यर्थ नहीं होगी रास्तो की
कवि दीपक बवेजा
जीवन
जीवन
लक्ष्मी सिंह
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
फटेहाल में छोड़ा.......
फटेहाल में छोड़ा.......
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
Loading...