Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2023 · 1 min read

🌿⚘️प्राचीन मंदिर (मड़) ककरुआ⚘️🌿

🌿⚘️प्राचीन मंदिर (मड़) ककरुआ⚘️🌿
12वीं 13वीं सदी ईस्वी में निर्मित यह मंदिर मड़ के नाम से प्रसिद्ध है स्तंभों पर चतुरसथ मंदिर की छत समतल है मंदिर में कोई प्रतिमा उपलब्ध नहीं है प्रशस्ति निर्मित स्तंभों के अधोवर्ती एवं भाग में घट पल्लव की साधना दृष्टबय है वास्तु शैली की दृष्टि से यह मंदिर महत्वपूर्ण है ।
क्षेत्रीय पुरातत्व इकाई झांसी
उत्तर प्रदेश राज्य पुरातन विभाग लखनऊ

1 Like · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
हाँ, मैं कवि हूँ
हाँ, मैं कवि हूँ
gurudeenverma198
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
कता
कता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Sakshi Tripathi
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तोल मोल के बोलो वचन ,
तोल मोल के बोलो वचन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हस्ती
हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
अंदर से टूट कर भी
अंदर से टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
झूमका
झूमका
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
वैभव बेख़बर
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वीरगति सैनिक
वीरगति सैनिक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
डॉ प्रवीण ठाकुर
आज फिर।
आज फिर।
Taj Mohammad
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
■ प्रकाशित आलेख
■ प्रकाशित आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
"कहाँ नहीं है राख?"
Dr. Kishan tandon kranti
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
shabina. Naaz
Loading...