Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 1 min read

🌺🌹रातें बहुत अजीब नज़र आतीं हैं🌹🌺

##मणिकर्णिका##
##हे बौनी, क्या हाल चाल है##
##कल पड़ेगा गीत##😉😉
##सूचना लेट मिली##

रातें बहुत अजीब नज़र आतीं हैं,
रातें बहुत अजीब नज़र आतीं हैं,
हम चले किस गली, न यह मालूम था,
वो मिलेंगे हमें यह अन्दाज था,
एक झोके की मानिद बहते गए,
वो लूटते रहे, यह अन्जाम था,
जिन्दगी बंजर नजर आती है,
रातें बहुत अजीब नज़र आतीं हैं।।1।।
कभी न मालूम था, इश्क़ का ये क़हर,
बड़े सम्भल कर लगाया था यह शजर,
क़रार था और हिदायत भी थी,
सब जानकर किया दर बदर,
हर बात ज़हर नज़र आती है,
रातें बहुत अजीब नज़र आतीं हैं।।2।।
साथ रहेंगे कहकर, अकेले चले गए,
हम चुप रहे, जाने क्या-क्या कहते चले गए,
ख़्यालों की अंजुमन में डूबे हुए थे हम,
वो दिल में खंजर चुभोते चले गए,
‘यादें जहन हैं’ वे भी नज़र आतीं हैं,
रातें बहुत अजीब नज़र आतीं हैं।।3।।
एक रात रोया बहुत रोया मैं,
करवटें बदल बदल कर सोया मैं,
ग़म की चिंगारी आग बन गई,
लम्हे लम्हे पर जाने क्या-क्या खोया मैं,
उनकी हाँ भी इनकार नजर आती है,
रातें बहुत अजीब नज़र आतीं हैं।।4।।
©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
45 Views
You may also like:
फागुन का महीना आया
फागुन का महीना आया
Dr Manju Saini
You cannot feel me because
You cannot feel me because
Sakshi Tripathi
रुतबा
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जानो आयी है होली
जानो आयी है होली
Satish Srijan
'घायल मन'
'घायल मन'
पंकज कुमार कर्ण
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ये आसमां ये दूर तलक सेहरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हर रंग देखा है।
हर रंग देखा है।
Taj Mohammad
■ खोज-बीन...
■ खोज-बीन...
*Author प्रणय प्रभात*
जर्मनी से सबक लो
जर्मनी से सबक लो
Shekhar Chandra Mitra
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रकृति प्रेमी
प्रकृति प्रेमी
Ankita Patel
बड़े दिनों के बाद मिले हो
बड़े दिनों के बाद मिले हो
Surinder blackpen
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
विक्रम कुमार
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
DrLakshman Jha Parimal
शिद्दतो में जो
शिद्दतो में जो
Dr fauzia Naseem shad
बहकने दीजिए
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
ऐ प्यारी हिन्दी......
ऐ प्यारी हिन्दी......
Aditya Prakash
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
Dr Archana Gupta
बताओ तुम ही, हम क्या करें
बताओ तुम ही, हम क्या करें
gurudeenverma198
Writing Challenge- खाली (Empty)
Writing Challenge- खाली (Empty)
Sahityapedia
💐अज्ञात के प्रति-148💐
💐अज्ञात के प्रति-148💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुद को पुनः बनाना
खुद को पुनः बनाना
Kavita Chouhan
*छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)*
*छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"चरित्र-दर्शन"
Dr. Kishan tandon kranti
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नियत समय संचालित होते...
नियत समय संचालित होते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सन २०२३ की मंगल कामनाएं
सन २०२३ की मंगल कामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हारे  रंग  में  हम  खुद  को  रंग  डालेंगे
तुम्हारे रंग में हम खुद को रंग डालेंगे
shabina. Naaz
सर्दी
सर्दी
Vandana Namdev
2236.
2236.
Khedu Bharti "Satyesh"
Loading...