Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2022 · 1 min read

🌹🌺कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ, तुम्हारी याद जो है संग में🌺🌹

##मणिकर्णिका##
##बौनी,तुम्हारे हिस्से में दुःख और डर दोनों हैं##

कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ,
तुम्हारी याद जो है संग में,
मैं तेरे बहुत नज़दीक जा पहुँचा,
तुम फिर क्यों?दूर जाते हो,
तुम्हें देखूँ में हर हद तक,
तुम न अपनी सूरत दिखाते हो,
मैं अभी भी सबेरा हूँ,
कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ,
तुम्हारी याद जो है संग में।।1।।
छोड़ी सभी बातें,
वो मुलाकात भी छोड़ी,
परहेज़ है उन ख़्यालों का,
जो न छेड़े रागिनी तेरी,
मैं उड़ता हुआ परिन्दा हूँ,
कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ,
तुम्हारी याद जो है संग में।।2।।
कोई सवाल था शक का,
तुम्हें जबाब मिलता सच का,
वो सुने ही नहीं मेरी बातों को,
न अब फ़र्क है न तब फ़र्क था,
तेरे बिना भी मैं जिन्दा हूँ,
कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ,
तुम्हारी याद जो है संग में।।3।।
राहों के मोड़ पर मिलना,
जहाँ सोचा था अब वहीं मिलना,
कोई इशारा भी तुम्ही करना,
वो हकीक़त से सँवारा हो,
मैं उजड़ा हुआ बसेरा हूँ,
कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ,
तुम्हारी याद जो है संग में।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः

Language: Hindi
Tag: गीत
300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
****भाई दूज****
****भाई दूज****
Kavita Chouhan
धीरे _धीरे ही सही _ गर्मी बीत रही है ।
धीरे _धीरे ही सही _ गर्मी बीत रही है ।
Rajesh vyas
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
अव्यक्त भाव को समझना ही अपनापन है और इस भावों को समझकर भी भु
अव्यक्त भाव को समझना ही अपनापन है और इस भावों को समझकर भी भु
Sanjay ' शून्य'
पिछले पन्ने 4
पिछले पन्ने 4
Paras Nath Jha
दिल से करो पुकार
दिल से करो पुकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr Archana Gupta
कुत्ते का श्राद्ध
कुत्ते का श्राद्ध
Satish Srijan
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
छंद मुक्त कविता : बचपन
छंद मुक्त कविता : बचपन
Sushila joshi
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
Kshma Urmila
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
ruby kumari
वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।
वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सागर से अथाह और बेपनाह
सागर से अथाह और बेपनाह
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
*सावन में अब की बार
*सावन में अब की बार
Poonam Matia
यातायात के नियमों का पालन हम करें
यातायात के नियमों का पालन हम करें
gurudeenverma198
मेरे भी दिवाने है
मेरे भी दिवाने है
Pratibha Pandey
2825. *पूर्णिका*
2825. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
"प्रार्थना"
Dr. Kishan tandon kranti
*चार दिन की जिंदगी में ,कौन-सा दिन चल रहा ? (गीत)*
*चार दिन की जिंदगी में ,कौन-सा दिन चल रहा ? (गीत)*
Ravi Prakash
" मटको चिड़िया "
Dr Meenu Poonia
Loading...