Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2016 · 1 min read

? पहेली है ज़िंदगी? कविता

ये ज़िंदगी अविराम है !
बहती नदी,
समय की घड़ी
अनंत की ओर परिवर्तनशील
परिवर्तन का नाम ज़िंदगी है…
कभी सरस- सरल,
कभी मीठापन,
कभी नीरस
हर दिन- पल दो पल
अनुभव ही तो है ज़िंदगी…
अनगिनत मोड़,
काँटो की डगर,
कभी फूलों की शहर,
कभी उड़ान,
कभी परेशान
अनसुलझी पहेली है ज़िंदगी…
खुला आकाश,
टिम- टिमाते तारे,
श्याम घटा,
सतरंगी इंद्रधनुष ,
पतझरों का मौसम,
बसंत का आगमन,
नव मधु सावन,
जादुई दुनिया
खिड़की से झाँकती हुई
सारे नज़ारे चुपके से
स्वप्न है ज़िंदगी..

कवि:दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

Language: Hindi
365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
फूल मुस्काने लगे (हिंदी गजल/गीतिका)
फूल मुस्काने लगे (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
वक़्त का आईना
वक़्त का आईना
Shekhar Chandra Mitra
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*जिंदगी  जीने  का नाम है*
*जिंदगी जीने का नाम है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
Umender kumar
किसने तेरा साथ दिया है
किसने तेरा साथ दिया है
gurudeenverma198
कता
कता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ काली
माँ काली
Sidhartha Mishra
ज़िंदगी मो'तबर
ज़िंदगी मो'तबर
Dr fauzia Naseem shad
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
नारी- स्वरूप
नारी- स्वरूप
Buddha Prakash
बिगड़े रईस
बिगड़े रईस
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-231💐
💐प्रेम कौतुक-231💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वह दे गई मेरे हिस्से
वह दे गई मेरे हिस्से
श्याम सिंह बिष्ट
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
Smriti Singh
"फुटपाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
2444.पूर्णिका
2444.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
इतनी सी बात पे
इतनी सी बात पे
Surinder blackpen
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...