? पहेली है ज़िंदगी? कविता

ये ज़िंदगी अविराम है !
बहती नदी,
समय की घड़ी
अनंत की ओर परिवर्तनशील
परिवर्तन का नाम ज़िंदगी है…
कभी सरस- सरल,
कभी मीठापन,
कभी नीरस
हर दिन- पल दो पल
अनुभव ही तो है ज़िंदगी…
अनगिनत मोड़,
काँटो की डगर,
कभी फूलों की शहर,
कभी उड़ान,
कभी परेशान
अनसुलझी पहेली है ज़िंदगी…
खुला आकाश,
टिम- टिमाते तारे,
श्याम घटा,
सतरंगी इंद्रधनुष ,
पतझरों का मौसम,
बसंत का आगमन,
नव मधु सावन,
जादुई दुनिया
खिड़की से झाँकती हुई
सारे नज़ारे चुपके से
स्वप्न है ज़िंदगी..

कवि:दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

153 Views
You may also like:
ऐ वतन!
Anamika Singh
दुआ
Alok Saxena
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
किसान
Shriyansh Gupta
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सेक्लुरिजम का पाठ
Anamika Singh
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
पिता
Santoshi devi
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
प्रेम...
Sapna K S
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
कलयुग की पहचान
Ram Krishan Rastogi
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr. Alpa H.
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
Loading...