Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

? ग़ज़ल-२ ?

एक कोशिश आपके हवाले …..

?_________________________________________

दिन ढलते ही जम जाती है ,महफिल जब तनहायी की;
कुछ साये करते हैं हरदम बात तेरी रुसवाई की..!!
___________________________________________?

आँखों की लाली से दिन के उजियारे ने भी पूछा;
खाब तुम्हारे ज़ख्मी क्यों हैं , किसने हाथापाई की..!!
?_________________________________________

हाय सिसकते आहें भरते कितने दिन और रात गये;
उन बंजारे लम्हातों की तुमने कब भरपाई की..!!
__________________________________________?

दीवारें भी मुझको मुजरिम मान चुकी हैं बरसों से;
मैंने भी तो इनको रँगकर केवल रस्म अदाई की..!!
?________________________________________

आखिर आँधी – तूफानों में मैं ही क्यों हरबार जलूँ;
ज़िम्मेदारी कुछ तो होगी हाँ मेरे हमराही की..!!
__________________________________________?

?अर्चना पाठक “अर्चिता”?
?________________________________________

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
*Author प्रणय प्रभात*
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
Anil chobisa
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
एक कुआ पुराना सा.. जिसको बने बीत गया जमाना सा..
Shubham Pandey (S P)
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
Kumar Kalhans
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
आसमाँ के परिंदे
आसमाँ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
होली का रंग
होली का रंग
मनोज कर्ण
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Perhaps the most important moment in life is to understand y
Perhaps the most important moment in life is to understand y
पूर्वार्थ
3107.*पूर्णिका*
3107.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देश का वामपंथ
देश का वामपंथ
विजय कुमार अग्रवाल
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
पानी
पानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*महॅंगी कला बेचना है तो,चलिए लंदन-धाम【हिंदी गजल/ गीतिका】*
*महॅंगी कला बेचना है तो,चलिए लंदन-धाम【हिंदी गजल/ गीतिका】*
Ravi Prakash
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
Shyam Pandey
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
Loading...