Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

? ग़ज़ल-२ ?

एक कोशिश आपके हवाले …..

?_________________________________________

दिन ढलते ही जम जाती है ,महफिल जब तनहायी की;
कुछ साये करते हैं हरदम बात तेरी रुसवाई की..!!
___________________________________________?

आँखों की लाली से दिन के उजियारे ने भी पूछा;
खाब तुम्हारे ज़ख्मी क्यों हैं , किसने हाथापाई की..!!
?_________________________________________

हाय सिसकते आहें भरते कितने दिन और रात गये;
उन बंजारे लम्हातों की तुमने कब भरपाई की..!!
__________________________________________?

दीवारें भी मुझको मुजरिम मान चुकी हैं बरसों से;
मैंने भी तो इनको रँगकर केवल रस्म अदाई की..!!
?________________________________________

आखिर आँधी – तूफानों में मैं ही क्यों हरबार जलूँ;
ज़िम्मेदारी कुछ तो होगी हाँ मेरे हमराही की..!!
__________________________________________?

?अर्चना पाठक “अर्चिता”?
?________________________________________

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 2 Comments · 185 Views
You may also like:
कृष्णा... अरे ओ कृष्णा...
Seema 'Tu hai na'
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
कैसे प्रणय गीत लिख जाऊँ
कुमार अविनाश केसर
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
पधारो नाथ मम आलय, सु-स्वागत सङ्ग अभिनन्दन।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
श्याम नाम
लक्ष्मी सिंह
ईस्वी सन 2023 एक जनवरी से इकत्तीस दिसंबर ज्योतिष आंकलन...
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कभी क्यो दिल जलाते हो मेरा
Ram Krishan Rastogi
हमरा अप्पन निज धाम चाही...
मनोज कर्ण
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मेरा शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शारीरिक भाषा (बाॅडी लेंग्वेज)
पूनम झा 'प्रथमा'
بہت ہوشیار ہو گئے ہیں لوگ۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रदीप छंद और विधाएं
Subhash Singhai
कलाम को सलाम
Satish Srijan
संविधान दिवस
Shekhar Chandra Mitra
राम राम
Sunita Gupta
ख्वाब
Harshvardhan "आवारा"
ये जिंदगी
N.ksahu0007@writer
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
हालात-ए-दिल
लवकुश यादव "अज़ल"
इश्क करके हमने खुद का तमाशा बना लिया है।
Taj Mohammad
Loading...