Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2022 · 2 min read

🌀 ■ फ़ेसबुकी फ़जीता 🌀

#व्यंग्य-
🌀 ■ फ़ेसबुकी फ़जीता 🌀
【प्रणय प्रभात】
हे तात…!!
★ तुम अपनी पिछली पोस्ट की बेक़ड्री और दुर्गति का लेशमात्र पश्चाताप न करो और यह मानकर धैर्य धारण करो कि यहाँ सब साक्षर हैं, शिक्षित नहीं।
★ तुम अपनी अगली पोस्ट के हश्र की भी तनिक चिंता न करो| मान लो कि तुम्हारी पकाई खिचड़ी अंततः तुम्हें ही खानी और पचानी है।
★ तुम श्रम और समय नष्ट कर क्लेश मोल लेने के बजाय केवल कॉपी-पेस्ट कर के ही काम चलाओ और हर पोस्ट को अपने बापू का माल समझो।
★ स्मरण रखो कि चोट्टाई का यह (सी प्लस पी बराबर व्ही वाला) खेल जब तुम नहीं थे, तब भी था और आगे भी निठल्लों की कृपा से धड़ल्ले से चलता रहेगा।
★ भूलना मत कि तुम जब नहीं रहोगे, तब भी तुम्हारी पोस्ट का अधिग्रहण चलता रहेगा।
★ गाँठ बाँध लो कि आज जो पोस्ट तुम्हारी है, वो कल किसी और की होगी। जैसे “बिन फेरे हम तेरे” की तर्ज पर तुम्हारी हुई।
★ व्यर्थ में अपना समय खोटा करने से पूर्व समझ लो कि जिन पर निर्भर हो, उनके पास समझ और समय का टोटा है।
★ तुम इस आभासी संसार में चाहे जिसे अपना समझ कर अपनी धुन में मग्न मत रहो| यही तुम्हारे समस्त दु:खों का कारण है||
★ °बहुत बढ़िया, लाजवाब, वैरी नाइस, यू आर राइट, करेक्ट और वेल-सेड जैसे शब्दों पर फूलने और इतराने से बचो। सब रेडीमेड हैं।
★ निष्काम व निरापद भाव से पोस्ट किए जाओ। फिर देखो तुम इस फेसबुक रूपी भवसागर में रहते हुए भी समस्त कुप्रभावों से दूर रहोगे और स्वर्ग का आनंद ले सकोगे।
★ दिन-रात समूह रूपी भंडारों का महाप्रसाद बाँटने वालों के चक्कर में घनचक्कर मत बनो। उन्हें “कालनेमि” और “मारीच” सा मायावी समझो।
भेजा-भड़क वाली इस रणभूमि पर दिए जा रहे उपदेश का सार बस इतना सा है कि आवेग और उद्वेग से मुक्त रहो। इस दिखावे की दुनिया मे जन्म लिया है तो भरपूर आनंद के साथ जिओ। भेड़ों के झुंड में भेड़ बन कर
रहो और “कुछ आता, न जाता, जगत से नाता” वाले महामंत्र को आत्मसात करो। कल्याणमस्तु।।

Language: Hindi
1 Like · 123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फ़र्क
फ़र्क
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
"मोहब्बत"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
A GIRL WITH BEAUTY
A GIRL WITH BEAUTY
SURYA PRAKASH SHARMA
*ये आती और जाती सांसें*
*ये आती और जाती सांसें*
sudhir kumar
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
कवि रमेशराज
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
मेरी माटी मेरा देश....
मेरी माटी मेरा देश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*आँखों से  ना  दूर होती*
*आँखों से ना दूर होती*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमारे विपक्ष में
हमारे विपक्ष में
*प्रणय प्रभात*
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
Suryakant Dwivedi
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
gurudeenverma198
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
Loading...