Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2019 · 1 min read

【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*

* सुबह हुई अब बिस्तर छोड़ो,
नींद से करो ना कोई प्यार *
* नींद के चक्कर में जो पड़ गए,
सारा दिन जाए बेकार *
* दाँत साफ कर कुल्ला कर लो,
फिर नहाने की है दरकार *
* तेल लगा अपने बालों में,
कंघी करनी है हर बार *
* जूते मोजे पहन के निकलो,
साफ वस्त्रों से हो प्यार *
* पढ़ने वाला बस्ता ले लो,
चल दो तुम हो कर तैयार *
* विद्यालय बस लेने आई,
बच्चों को हुई खुशी अपार *
* बड़ों को ऑफिस जल्दी जाकर,
फैलाना अपना व्यापार *
* सुबह समय का मूल्य बता गई,
समय की महिमा अपरंपार *
* समय के साथ चले जो जग में,
उसको जाने सब संसार *

Arise DGRJ { Khaimsingh Saini }
( M.A, B.Ed from University of Rajasthan )
Mob. – 9366034599

6 Likes · 1103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"आखिरी निशानी"
Dr. Kishan tandon kranti
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
Seema Verma
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
छिपी हो जिसमें सजग संवेदना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
विजय कुमार अग्रवाल
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
23/94.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/94.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मधुमाश
मधुमाश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बहुत कुछ बोल सकता हु,
बहुत कुछ बोल सकता हु,
Awneesh kumar
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
जीना सिखा दिया
जीना सिखा दिया
Basant Bhagawan Roy
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
कवि रमेशराज
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
Loading...