Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2019 · 1 min read

【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*

* सुबह हुई अब बिस्तर छोड़ो,
नींद से करो ना कोई प्यार *
* नींद के चक्कर में जो पड़ गए,
सारा दिन जाए बेकार *
* दाँत साफ कर कुल्ला कर लो,
फिर नहाने की है दरकार *
* तेल लगा अपने बालों में,
कंघी करनी है हर बार *
* जूते मोजे पहन के निकलो,
साफ वस्त्रों से हो प्यार *
* पढ़ने वाला बस्ता ले लो,
चल दो तुम हो कर तैयार *
* विद्यालय बस लेने आई,
बच्चों को हुई खुशी अपार *
* बड़ों को ऑफिस जल्दी जाकर,
फैलाना अपना व्यापार *
* सुबह समय का मूल्य बता गई,
समय की महिमा अपरंपार *
* समय के साथ चले जो जग में,
उसको जाने सब संसार *

Arise DGRJ { Khaimsingh Saini }
( M.A, B.Ed from University of Rajasthan )
Mob. – 9366034599

5 Likes · 521 Views
You may also like:
*दुराचारी का अक्सर अंत अपने आप होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चार्वाक महाभारत का
AJAY AMITABH SUMAN
पक्षी
Sushil chauhan
दोहा
नवल किशोर सिंह
वो बोली - अलविदा ज़ाना
bhandari lokesh
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कमाल ये है...✍️
'अशांत' शेखर
नूतन वर्ष की नई सुबह
Kavita Chouhan
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी यूं ही गुजार दूं।
Taj Mohammad
सिर्फ तेरी वजह से
gurudeenverma198
अश्क़
Satish Srijan
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों...
Manisha Manjari
बी एफ
Ashwani Kumar Jaiswal
असफल कवि
Shekhar Chandra Mitra
या अल्लाह या मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चंदू और बकरी चाँदनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक "Bruce...
Pravesh Shinde
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
■ चर्चित कविता का नया संस्करण
*Author प्रणय प्रभात*
पता ही नहीं चला
Kaur Surinder
प्रेम का फिर कष्ट क्यों यह, पर्वतों सा लग रहा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
आलेख : सजल क्या हैं
Sushila Joshi
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
मन संसार
Buddha Prakash
" अद्भुत, निराला करवा चौथ "
Dr Meenu Poonia
अनामिका के विचार
Anamika Singh
घर की रानी
Kanchan Khanna
Loading...