Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2022 · 1 min read

✍️ मसला क्यूँ है ?✍️

✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
—————————————–//
वो किसी जर्रे में मौजूद ही नहीं,
तो ये क़त्ले-आम मसला क्यूँ है ?

ख़ुद मरके उसे जिंदा रखने का,
इंसान के ज़िद में हौसला क्यूँ है ?

गर ये तय है के इँसा ही यहाँ हारेगा..
फिर इँसा से ही जंग का फ़ैसला क्यूँ है?

यही से रास्ता है उस मंझिल की ओर…
तो स्वर्ग और जन्नत में फ़ासला क्यूँ है?

सरहद से लौट आया था एक परिंदा
पूछता है बर्बाद मेरा ही घोंसला क्यूँ है?

हर मर्तबा इन पत्थरों में झाँककर देखा है
उस लापता का ही जुबाँ पे ढ़कोसला क्यूँ है?
————————————————-//
✍️”अशांत”शेखर✍️
12/06/2022

1 Like · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ सोच कर तो देखो ज़रा...।।😊😊
■ सोच कर तो देखो ज़रा...।।😊😊
*प्रणय प्रभात*
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"चीखें विषकन्याओं की"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभु -कृपा
प्रभु -कृपा
Dr. Upasana Pandey
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पीछे मुड़कर
पीछे मुड़कर
Davina Amar Thakral
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नारी हो कमज़ोर नहीं
नारी हो कमज़ोर नहीं
Sonam Puneet Dubey
" यकीन करना सीखो
पूर्वार्थ
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
पं अंजू पांडेय अश्रु
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जितने चंचल है कान्हा
जितने चंचल है कान्हा
Harminder Kaur
हृदय परिवर्तन
हृदय परिवर्तन
Awadhesh Singh
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
सुंदर नाता
सुंदर नाता
Dr.Priya Soni Khare
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
shabina. Naaz
Loading...