Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

✍️सफलता के लिए…

सफलता के लिए
जितने की जिद..
हार के डर से
बड़ी होनी चाहिये

उस जिद के
साथ कोशिशे हजार
मगर उम्मीद एक
खड़ी होनी चाहिये
…………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
23/09/2022

4 Likes · 8 Comments · 33 Views
You may also like:
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्यार
Anamika Singh
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क
Anamika Singh
पिता
Dr. Kishan Karigar
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
पहचान...
मनोज कर्ण
यादें
kausikigupta315
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
Loading...