Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

✍️नये सभ्यता के प्रयोगशील मानसिकता का विकास

हां मेरी जाती का नाम
सुनते ही उनके कदम
ठहर जाते थे ठाकुर
मोहल्ले के चौराहे पर
आधे कोस की दुरी से
वो मेरे बस्ती का जायजा
कर लेते थे ऊपरी तौर पे
राजू लोहार के जरिये
यही कुछ आठ दस साल
पुरानी बात का ये जिक्र है
हम सुविधाओं से वंचित
रह जाते थे सालो साल
मैं जानता हूँ के अब भी
मेरी यादाश्त ठीक है
वो चुनावी मौसम में
मेरे आगे की गल्ली में
रहनेवाली उम्रदराज़
मालती रहिदास चाची के घर
एक दिन का राजनैतिक
त्यौहार मनाने आनेवाले थे
उन्ही के घर रहना और खाना..!
मंत्री महोदय जी का आना
मानो हर गली और मोहल्ले का
रुका हुवा विकास ही था
चाचा जी अब स्वीपर पद के
नोकरी से सेवानिवृत्त है…

मेरी जाती का
अभिनव बदलाव
नये सभ्यता के प्रयोगशील
मानसिकता का विकास है..!
मात्र जाति तोड़ो विकास के
परिवर्तन से अब भी दूर कोसो दूर है….!
………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
29/09/2022

1 Like · 2 Comments · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
Hitanshu singh
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
राजा यह फल का हुआ, कहलाता है आम (कुंडलिया)
राजा यह फल का हुआ, कहलाता है आम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
Ravi Ghayal
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
जिंदगी एक ख़्वाब सी
जिंदगी एक ख़्वाब सी
डॉ. शिव लहरी
जब होंगे हम जुदा तो
जब होंगे हम जुदा तो
gurudeenverma198
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
,,,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
धड़कन धड़कन ( गीत )
धड़कन धड़कन ( गीत )
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
Dr. Man Mohan Krishna
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अपनी सोच का शब्द मत दो
अपनी सोच का शब्द मत दो
Mamta Singh Devaa
रैन  स्वप्न  की  उर्वशी, मौन  प्रणय की प्यास ।
रैन स्वप्न की उर्वशी, मौन प्रणय की प्यास ।
sushil sarna
"कलम की ताकत"
Dr. Kishan tandon kranti
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
दुष्यन्त 'बाबा'
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
डॉ० रोहित कौशिक
सांस
सांस
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
Deepesh सहल
Loading...