Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

✍️कुछ बाते…

बाते मीठी..
बाते खट्टी..
बाते कड़वी..
बाते जहर
भी होती है…

बाते बोझ से
दबे अंतर्मन को
मुक्ति पाने का
साधन होती है…

बाते एक दूसरे
के अंतर्मन से
संवाद का गहरा
माध्यम होती है…

फिर भी कुछ
बाते मीठी,खट्टी
कड़वी और
जहर होती है…

मन को छू गई
तो जीवन में
पहर होती है…
दिल को लग गई
तो जीवन पर
कहर होती है…
…………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
17/10/2022

2 Likes · 4 Comments · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
■ एक सैद्धांतिक सच। ना मानें तो आज के स्वप्न की भाषा समझें।
*प्रणय प्रभात*
बेवजह कभी कुछ  नहीं होता,
बेवजह कभी कुछ नहीं होता,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
मोदी को सुझाव
मोदी को सुझाव
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शमशान और मैं l
शमशान और मैं l
सेजल गोस्वामी
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
Dr MusafiR BaithA
अश्रु
अश्रु
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तूं कैसे नज़र अंदाज़ कर देती हों दिखा कर जाना
तूं कैसे नज़र अंदाज़ कर देती हों दिखा कर जाना
Keshav kishor Kumar
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan Alok Malu
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
Ranjeet kumar patre
प्रेम के रंग कमाल
प्रेम के रंग कमाल
Mamta Singh Devaa
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
$ग़ज़ल
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
भारत शांति के लिए
भारत शांति के लिए
नेताम आर सी
इंसानियत
इंसानियत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
2482.पूर्णिका
2482.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...