Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2022 · 1 min read

✍️एक ख्वाइश बसे समझो वो नसीब है

खुद बिना समझे जाहिलों को हम
समझा रहे, ये शौक बड़ा अजीब है
तहरीर दर्द-ए दिल की खुशगवार
को सुना रहे,हम भी कैसे अदीब है

यहाँ पढ़ी लिखी इंसानी होशियारी
खुद के जुबाँ को सिमटकर बैठी है
चार किताबें पढ़ने में जो दिलचस्प
नहीं थे, दुनिया के लिए वो नजीब है

वैसे तो सच को क़ीमत मिलती नहीं
झूठ यहाँ सस्ते में यूँही बिकता नहीं
मगर सच्चाई का वो खरीददार निकला
दाम लगानेवाला सौदागर मेरा हबीब है

हम बदनसीब नागवार को सुनते है
यूँही जीने के रोज कुछ ख़्वाब बुनते है
इस जद्दोजहद के दौर में आँखों में
एक ख्वाइश बसे समझो वो नसीब है
……………………………………………………//
©✍️’अशांत’शेखर✍️
13/08/2022

3 Likes · 7 Comments · 517 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
‍ *राम-राम रटते तन त्यागा (कुछ चौपाइयॉं)*
‍ *राम-राम रटते तन त्यागा (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
इतनी खुबसुरत हो तुम
इतनी खुबसुरत हो तुम
Diwakar Mahto
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
जीवन में उन सपनों का कोई महत्व नहीं,
Shubham Pandey (S P)
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
जीवन का कोई सार न हो
जीवन का कोई सार न हो
Shweta Soni
चाहे लाख महरूमियां हो मुझमे,
चाहे लाख महरूमियां हो मुझमे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इंसान हो या फिर पतंग
इंसान हो या फिर पतंग
शेखर सिंह
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
अब बदला किस किस से लू जनाब
अब बदला किस किस से लू जनाब
Umender kumar
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तनहाई
तनहाई
Sanjay ' शून्य'
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
Dr MusafiR BaithA
Loading...