Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2022 · 1 min read

✍️अच्छे दिन✍️

✍️अच्छे दिन✍️
………………………………………//
हमने कहाँ मांगे थे बेबस
लाचारी के ये अच्छे दिन
लौटा दो हमें न कड़वे ना
मिठे वो पुराने बीते दिन

चूल्हें की बुझती लौ और
टिमटिमाती ये रोशनी
अब घर के बिजली की
बर्दाश्त नहीं होती रौनक
लौटा दो गमे शानो शौकत
दो वक़्त के थाली की दौलत

कोई झूठी आस अब ना दिखाओ
अपने मन की बात ना सिखाओ
खूब दुनिया में बोलबाला हुँवा है
यहाँ लोगो का निवाला छिन रहा है

रहने दो अब दर दर की ये फ़कीरी
उठा दो अब हर घर की ये बेकारी
तुम एक बाबा हो बड़े ही चमत्कारी
देश पर आफ़त है बढ़ रही मक्कारी।

महंगाई की मुँह दबाके मार पड़ रही है
अब क़यामत प्रजा के द्वार पे खड़ी है
………………………………………………//
✍️”अशांत”शेखर✍️
15/07/2022

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
■ मुस्कान में भगवान...
■ मुस्कान में भगवान...
*Author प्रणय प्रभात*
Y
Y
Rituraj shivem verma
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
The day I decided to hold your hand.
The day I decided to hold your hand.
Manisha Manjari
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
फिर मिलेंगे
फिर मिलेंगे
साहित्य गौरव
रहस्य
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
" आशिकी "
Dr. Kishan tandon kranti
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
कल तक थे वो पत्थर।
कल तक थे वो पत्थर।
Taj Mohammad
पेड़ो की दुर्गति
पेड़ो की दुर्गति
मानक लाल मनु
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* मुस्कुरा देना *
* मुस्कुरा देना *
surenderpal vaidya
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह रूठना मनाना, मनाकर फिर रूठ जाना ,
यह रूठना मनाना, मनाकर फिर रूठ जाना ,
कवि दीपक बवेजा
डॉ अरुण कुमार शास्त्री x एक अबोध बालक x अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री x एक अबोध बालक x अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
****भाई दूज****
****भाई दूज****
Kavita Chouhan
भय की आहट
भय की आहट
Buddha Prakash
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
"बचपन"
Tanveer Chouhan
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
जीवन संग्राम के पल
जीवन संग्राम के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
Loading...