Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

★गैर★

वो पूछता है वो उसके काबिल है क्या। अरे वहां पे जाके देख कुछ टूटा रखा है तेरा दिल है क्या । और दिखा खंजर उसके हाथ में मैं पूछ बैठा मेरा कातिल है क्या।।
★IPS KAMAL THAKUR★

1 Like · 406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ये जीवन किसी का भी,
ये जीवन किसी का भी,
Dr. Man Mohan Krishna
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
नाकामयाबी
नाकामयाबी
भरत कुमार सोलंकी
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
महादेव
महादेव
C.K. Soni
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*धन्यवाद*
*धन्यवाद*
Shashi kala vyas
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
हौसला
हौसला
Monika Verma
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
*Author प्रणय प्रभात*
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
आप नौसेखिए ही रहेंगे
आप नौसेखिए ही रहेंगे
Lakhan Yadav
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।
पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मन की संवेदना
मन की संवेदना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
दलित के भगवान
दलित के भगवान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"खिड़की"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...