Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

☀️ओज़☀️

☀️ओज़☀️

ढल गया हूँ पर्वत के पीछे
था सूरज मानुष का ।
रंग-बिरंगी थी आंगन प्यारी
ताने खड़ा आज दु:ख धनुष सा ।।
☀️☀️☀️☀️☀️☀️
हरियाली तेज से घिर गई
बवंडर भरी चञ्चल मन ।
घास थी ,सड़ते दल-दल से
जैसे मोह से तड़पता तन ।।
☀️☀️☀️☀️☀️☀️
स्वयं न रचा इतिहास कभी
प्रफुल्लित था जब मन ।
दोपहर सी हिलोरती मुझे
दुख की झंझा तेज पवन ।।
☀️☀️☀️☀️☀️☀️
अलहन है मुझ पर
उत्साह से अंकुरित हुआ तन ।
कटार खड़ा नवयुवक अज्ञ
क्षण-क्षण कटता दु:ख से चरण ।।
☀️☀️☀️☀️☀️☀️
लुढ़कते मोती गालों पर
दु:ख से जैसे तपते नयन ।
आल्हाद है पीड़ा नस-नस में
क्षीर लहर सा तड़पता बदन ।।
☀️☀️☀️☀️☀️☀️
हर श्वास में है विश्वास
उन्नति से बंधता बंधन ।
कर्तव्य बोध की सीढ़ी पर
अंतिम पग अड़ा मधुसूदन ।।
☀️☀️☀️☀️☀️☀️
उगना है तिमिरता से डटकर
ओढ़ना नहीं आलस्य कफ़न ।
पकता है उम्र आम जैसे
तब बढ़ता है ज्ञान का यौवन ।।
☀️☀️☀️☀️☀️☀️

🔥 सुरेश अजगल्ले “इन्द्र”🔥

Language: Hindi
1 Like · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
*हमारे विवाह की रूबी जयंती*
Ravi Prakash
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भाई हो तो कृष्णा जैसा
भाई हो तो कृष्णा जैसा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
"अपदस्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
कितनी आवाज़ दी
कितनी आवाज़ दी
Dr fauzia Naseem shad
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
खोखली बातें
खोखली बातें
Dr. Narendra Valmiki
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
■ अखंड भारत की दिशा में प्रयास का पहला चरण।
■ अखंड भारत की दिशा में प्रयास का पहला चरण।
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी
जिंदगी
sushil sarna
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
Vishal babu (vishu)
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
मतलबी ज़माना है.
मतलबी ज़माना है.
शेखर सिंह
Loading...