Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2023 · 1 min read

■ हिप-हिप हुर्रे…

#लघु4व्यंग्य
■ हिप-हिप हुर्रे…
★ हो जाओ तैयार जवानों!!
अपसंस्कृति के अंतरराष्ट्रीय महापर्व “वेलेंटाइन डे” के लिए काउंट-डाउन शुरू हो गया है। दूध के दांत वालों से लेकर नक़ली बत्तीसी वालों तक मे बेताबी का माहौल है। शातिर “बाज़ीगर” अपनी बाज़ीगरी दिखाने की तैयारी में हैं। बिंदास “सिमरनें” अपनी ज़िंदगी अपने अंदाज़ में जीने को फड़फड़ा रही हैं। जैसे भी हो “रंगीन ह्फ़्ता” या “पखवाड़ा” मन जाए। फिर चाहे हटवाड़ा ही क्यों न हो जाए। केसरिया पूरब पर हरियाते पश्चिम का जादू सिर चढ़ कर बोल रहा है।
“सेंटा-क्लोज़” के बाद “सेंट वेलेंटाइन” की विरासत के नक़ली वारिस असलियों से ज़्यादा उतावले हैं। वो भी इस हद तक कि पूछिए ही मत। दूसरी तरफ़ लठों को तेल पिलाया जा रहा है। लठैती दिखाने का त्यौहार जो आ रहा है। “दोनों तरफ है आग बराबर लगी हुई” वाली बात दो मोर्चों पर साकार होने जा रही है। एक ओर आशनाई की चाह में धड़कते दिल हैं। दूसरी ओर गज़क-कुटाई के लिए फड़कती भुजाएं।
कुल मिला कर अपना नाम एक सप्ताह से लेकर पूरे एक पखवाड़े तक सुर्खी में आना तय है। मामला “प्रणय उत्सव” का जो है। ऊपर वाले को इस बारे में 55 साल पहले पता चल गया था शायद। तभी तो उसने बंदे के “जनम और परण” को इससे जोड़ दिया। तो बोलो “हिप-हिप हुर्रे।” बाद में भले ही उड़ जाएं इज़्ज़त के धुर्रे…।।
【प्रणय प्रभात】
संपादक/न्यूज़ & व्यूज़
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
Anil Mishra Prahari
तन्हाईयाँ
तन्हाईयाँ
Shyam Sundar Subramanian
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
gurudeenverma198
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
'अशांत' शेखर
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
VINOD CHAUHAN
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
Dr fauzia Naseem shad
परछाइयों के शहर में
परछाइयों के शहर में
Surinder blackpen
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
सत्य कुमार प्रेमी
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
నమో సూర్య దేవా
నమో సూర్య దేవా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
■ एक ही उपाय ..
■ एक ही उपाय ..
*Author प्रणय प्रभात*
"ग़ौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...