Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 2 min read

■ हम हों गए कामयाब चाँद पर…

■ हम हों गए कामयाब चाँद पर…
【प्रणय प्रभात】
23 अगस्त 2023 की शाम भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने विश्व-पटल पर भारत का नाम स्वर्णाक्षरों में अंकित कर राष्ट्र की वैज्ञानिक सामर्थ्य को एक बार फिर प्रमाणित कर दिया।
चन्द्रमा के दक्षिण ध्रुव की दुर्गम सतह पर शाम 6 बज कर 4 मिनट पर शान से उतरे चंद्रयान-3 के लैंडर “विक्रम” के पराक्रम की साक्षी समूची दुनिया बनी। रोवर “प्रज्ञानं” ने चंद्र-धरा पर आराम से भ्रमण करते हुए अभियान की पूर्ण सफलता पर पुष्टि की मुहर लगा दी। राष्ट्रीय संप्रभुता के प्रतीक चिह्न चाँद पर अंकित होते देख दुनिया अवाक रह गई। “इसरो” से “नासा” मुख्यालय तक दुनिया भर में चन्द्र-विजय की धूम बनी और हम जैसे लाखों रचनाधर्मियों की लेखनी को गौरव के आभास की अभिव्यक्ति का एक महानतम अवसर मिल गया। लेखनी से आनन-फानन में बहुत कुछ उपजा। उसी के कुछ अंश विविधता के साथ समर्पित हैं।

■ #कुंडली-
विक्रम अपनी गोद में, लेकर के प्रज्ञान।
उतरा जा के चाँद पर, दिन बन गया महान।
दिन बन गया महान, जगत की थी अभिलाषा।
चंद्र-धरा पर अंकित हो, मेधा की भाषा।
कहे प्रणय कविराय राम प्रभु ने दी ये दम।
सकुशल उतरा चंद्र-सतह पर अपना विक्रम।।

■ #मुक्तक-
चाँद पर लहरा गया भारत का परचम फ़ख्र है।
कोई भूलेगा नहीं इसरो का दमखम फ़ख्र है।।
गाढ़ कर प्यारा तिरँगा आज साउथ पोल पर।
चाँद पर प्रज्ञान घूमा साथ विक्रम फ़ख्र कर।।

■ #मुक्तक-
दिल-दिमाग़, आंखें टीवी पे धर के बैठे थे।
चाहत की झोली में आशा भर के बैठे थे।
हमको इसरो की क्षमता पर प्रबल भरोसा था।
जश्न मनाने की तैयारी कर के बैठे थे।।

■ #शेर-
आज चाँद पर दीवाली है,
आज चाँद पर होली है।
विश्व-विजेता न्यारा भारत
सारी दुनिया बोली है।।

■ #चलते-चलते-
“लाइम-लाइट में आकर के,
एक बार फिर टक्कर दे गई।
व्रत-पूजा तो सबने की थी,
क्रेडिट सीमा भाभी ले गई।।”

■प्रणय प्रभात■
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
रमेशराज की एक तेवरी
रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
2636.पूर्णिका
2636.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हमको ख़ामोश कर दिया
हमको ख़ामोश कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
"लाजिमी"
Dr. Kishan tandon kranti
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गर्म स्वेटर
गर्म स्वेटर
Awadhesh Singh
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
पल्लवित प्रेम
पल्लवित प्रेम
Er.Navaneet R Shandily
जनसंख्या है भार, देश हो विकसित कैसे(कुन्डलिया)
जनसंख्या है भार, देश हो विकसित कैसे(कुन्डलिया)
Ravi Prakash
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
उनका ही बोलबाला है
उनका ही बोलबाला है
मानक लाल मनु
गम इतने दिए जिंदगी ने
गम इतने दिए जिंदगी ने
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
पूर्वार्थ
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"UG की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
मेखला धार
मेखला धार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
Loading...