Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

■ लघुकथा

#लघुकथा
■ बड़ा सा टैडी…..।
【प्रणय प्रभात】
सौलह साल की मैडी के डैडी ने उसे एक बड़ा सा टैडी ला कर दिया। दिन था 10 फ़रवरी यानि टैडी-दिवस का। एक खोखली सी मुस्कान और मरियल से थेंक्स के साथ मैडी ने टैडी ले लिया।
डैडी खुश थे कि बेटी को गिफ़्ट पसंद आया। उन्हें क्या पता था कि टैडी का बच्चा सुबह मुँह-अँधेरे उनकी बेटी को मिल चुका था। जो मधुमासी मादकता की क्लोरोफार्म से बेटी को पहले से ही मदहोश किए हुए था।
स्कूल बैग में छुपा कर रखे गए उस छोटे से टैडी के आगे बड़े से कॉर्नर स्टैंड पर टिका उनका भारी-भरकम टैडी यौवन की दहलीज़ लाँघने को बेताब मैडी की ओर मुँह बाए ताक रहा था।

【प्रणय प्रभात】
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
◆धर्म-गीत
◆धर्म-गीत
*प्रणय प्रभात*
अधिकतर ये जो शिकायत करने  व दुःख सुनाने वाला मन होता है यह श
अधिकतर ये जो शिकायत करने व दुःख सुनाने वाला मन होता है यह श
Pankaj Kushwaha
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
Neelam Sharma
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
Sushila joshi
हर पिता को अपनी बेटी को,
हर पिता को अपनी बेटी को,
Shutisha Rajput
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
News
News
बुलंद न्यूज़ news
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
आहिस्था चल जिंदगी
आहिस्था चल जिंदगी
Rituraj shivem verma
2337.पूर्णिका
2337.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो ज़माने चले गए
वो ज़माने चले गए
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
बर्फ
बर्फ
Santosh kumar Miri
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जिस आँगन में बिटिया चहके।
जिस आँगन में बिटिया चहके।
लक्ष्मी सिंह
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
Buddha Prakash
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूर्वार्थ
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
मैं स्वयं हूं..👇
मैं स्वयं हूं..👇
Shubham Pandey (S P)
अनुभूति
अनुभूति
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...