Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2022 · 2 min read

■ लघुकथा / प्रेस कॉन्फ्रेंस

#लघुकथा
■ प्रेस कॉन्फ्रेंस
【प्रणय प्रभात】
बड़े से हॉल में ख़ासी गहमा-गहमी थी। मौक़ा था एक धनकुबेर द्वारा आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस का। दो-पकोड़े और चार-चार बिस्किट्स वाली पेपर-प्लेट्स एक तरफ टेबल पर सजाई जा रही थीं। शहर भर के छोटे-बड़े पत्रकार टेबल के आसपास जमा थे। डिस्पोजल में गरमा-गरम चाय का निर्बाध वितरण जारी था। चुस्कियों के बीच पकौड़ों का लुत्फ लिया जा रहा था। कॉन्फ्रेंस के विषय को लेकर घाघ पत्रकार क़यास लगा रहे थे। नौसिखियों में भी ज़बरदस्त कौतुहल था। आख़िरकत कॉन्फ्रेंस शुरू हुई। परिजनों और बंधु-बांधवों के बीच आयोजक ने पहले से तैयार मसौहाथदा पढ़ना शुरू किया। कुछ ही मिनटों में चाय-पकोड़ो के लिए हाथ जोड़-जोड़ कर की गई मनुहारों के पीछे की मंशा पर से पर्दा हट गया। पता चला कि मामला करोड़ों की जमीम पर जबरन कब्जे का है। आरोप आला दर्जे के पावरफुल मंत्री के कद्दावर पट्ठे पर था। पत्रकारों के पेट मे गई पकोड़ियां डकार के साथ हलक से बाहर आने को बेताब थीं। मामला पानी मे रह कर मगरमच्छ से बैर लेने का था। वो भी 75 ग्राम पकौड़ियों और 50 मिलीलीटर चाय के बदले। सौदा वाकई मंहगा था। वो भी पराई ज़मीन की उस लड़ाई के लिए, जो कमाई हुई नहीं हथियाई हुई थी। “चोर के सिर पे मोर” वाली कहावत साकार हो रही थी और पत्रकार बिरादरी का शोर थम चुका था। उन्हें भरोसा था अगले दिन होने वाली नेताजी की प्र्रेस कॉन्फ्रेंस और उपहार के साथ परोसे जाने वाले ड्राय-फ्रूट्स का। जिनके बदले दबंगई की पैरवी में कोई घाटा या जोखिम भी नहीं था। आने वाला साल जो चुनावी था।

Language: Hindi
1 Like · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr Archana Gupta
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
Ranjeet kumar patre
मोमबत्ती जब है जलती
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
नसीहत
नसीहत
Slok maurya "umang"
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
Dr. Vaishali Verma
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
सोने का हिरण
सोने का हिरण
Shweta Soni
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मंजिलें
मंजिलें
Mukesh Kumar Sonkar
दोहा पंचक. . . .
दोहा पंचक. . . .
sushil sarna
अपनी मंजिल की तलाश में ,
अपनी मंजिल की तलाश में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
3483.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3483.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
राम की आराधना
राम की आराधना
surenderpal vaidya
सेल्फी या सेल्फिश
सेल्फी या सेल्फिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नज़र नहीं नज़रिया बदलो
नज़र नहीं नज़रिया बदलो
Sonam Puneet Dubey
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बदल सकता हूँ मैं......
बदल सकता हूँ मैं......
दीपक श्रीवास्तव
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
"तेरे बगैर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...