Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।

#अहम_सवाल
■ मीठा-मीठा गप्प तो कड़वा-कड़वा थू कैसे??
जब हर शब्द असंसदीय है तो फिर संसदीय क्या है? जो देश भर में प्रचलित है वो संसद में निषिद्ध कैसे? क्या संसद या कोई भी सदन देश से बड़ा है? सवाल तो बनते ही हैं नीति-निर्धारकों से, जो अपने शब्दों और वाक्यों को ऋचाऐं मानते हैं तथा औरों के शब्दों को गाली)
■प्रणय प्रभात■

1 Like · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
*धन्य करें इस जीवन को हम, चलें अयोध्या धाम (गीत)*
*धन्य करें इस जीवन को हम, चलें अयोध्या धाम (गीत)*
Ravi Prakash
ऐसी थी बेख़्याली
ऐसी थी बेख़्याली
Dr fauzia Naseem shad
//खलती तेरी जुदाई//
//खलती तेरी जुदाई//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वो ऊनी मफलर
वो ऊनी मफलर
Atul "Krishn"
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
"स्मार्ट विलेज"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
संवेदना
संवेदना
Shama Parveen
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
3170.*पूर्णिका*
3170.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदलना न चाहने वाले को आप कभी बदल नहीं सकते ठीक उसी तरह जैसे
बदलना न चाहने वाले को आप कभी बदल नहीं सकते ठीक उसी तरह जैसे
पूर्वार्थ
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम ,   रहेंगे जुदा ना ,ना  बिछुड़ेंगे
दिल को लगाया है ,तुझसे सनम , रहेंगे जुदा ना ,ना बिछुड़ेंगे
DrLakshman Jha Parimal
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
■ शायद...?
■ शायद...?
*प्रणय प्रभात*
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
पूछूँगा मैं राम से,
पूछूँगा मैं राम से,
sushil sarna
LEAVE
LEAVE
SURYA PRAKASH SHARMA
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
Loading...