Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2023 · 1 min read

■ मज़ाक मज़ाक में….

#मज़ा_आ_गया
■ चल निकली पहली बाल कविता
【प्रणय प्रभात】
श्योपुर के मौसम और एक चित्र पर सहज ही लिखी गई पहली बाल कविता “सूरज सोया, ओढ़ रज़ाई” ने मज़ा बांध दिया। प्रिय भतीजी #गौरी (दर्शना) ने याद कर के सुना डाली। शिक्षिका #श्रीमती_मंजू_शुक्ला ने सुबह-सवेरे अपनी कक्षा के सारे बच्चों को याद करा के शुभ शगुन कर ही दिया था। कल ग्वालियर से प्यारी भांजी #लालिमा ने व्हाट्सअप पर वॉइस मेसेज भेज कर कविता स्कूल में सुनाने का प्रॉमिस किया। इंदौर से प्यारे भांजे #अव्यान, शिवपुरी से लाडली भांजी #ओजस्विनी और जयपुर से प्रिय भतीजी #सारक्षी के वीडियो आने लगभग पक्के हैं। मतलब यह है कि जल्द ही दूसरी बाल कविता लिखनी पड़ेगी। इस रिस्पॉन्स के सम्मान में। हा… हा…हा…हा।

1 Like · 191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मेरी माटी मेरा देश....
मेरी माटी मेरा देश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
अधमी अंधकार ....
अधमी अंधकार ....
sushil sarna
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अजदहा बनके आया मोबाइल
अजदहा बनके आया मोबाइल
Anis Shah
सच्चे रिश्ते वही होते है जहा  साथ खड़े रहने का
सच्चे रिश्ते वही होते है जहा साथ खड़े रहने का
पूर्वार्थ
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
टफी कुतिया पे मन आया
टफी कुतिया पे मन आया
Surinder blackpen
■ 2023/2024 👌
■ 2023/2024 👌
*Author प्रणय प्रभात*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
💐अज्ञात के प्रति-120💐
💐अज्ञात के प्रति-120💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...