Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

■ बोली की ग़ज़ल …..

👉 बोली की ग़ज़ल….
【प्रणय प्रभात】

★ सुख-दुःख दोनों हैं हमजोली।
आओ, खेलें आँख-मिचौली।।

★ तब तक अपने रहे पराये।
जब तक मन की गांठ न खोली।।

★ नीम रहा कड़वा का कड़वा।
पक कर मीठी हुई निंबोली।।

★ कब तक पेड़ खड़ा रह पाता?
जड़ तो जड़, मिट्टी भी पोली।।

★ इंसानी बस्ती का सच है।
गंदा तकिया, उजली ख़ोली।।

★ गंगा तट पर पाप सलामत।
सब ने मैली चादर धो ली।।

★ गूंगे बोलें, बहरे सुन लें।
सबसे बड़ी प्यार की बोली।।

#प्रभात_प्रणय
(08 फरवरी 2017)

1 Like · 188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
गुमनाम 'बाबा'
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
Buddha Prakash
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
घमंड की बीमारी बिलकुल शराब जैसी हैं
घमंड की बीमारी बिलकुल शराब जैसी हैं
शेखर सिंह
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
धर्म का मर्म समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
कोशिश मेरी बेकार नहीं जायेगी कभी
gurudeenverma198
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
चलो हम सब मतदान करें
चलो हम सब मतदान करें
Sonam Puneet Dubey
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मन और मस्तिष्क
मन और मस्तिष्क
Dhriti Mishra
55 रुपए के बराबर
55 रुपए के बराबर
*प्रणय प्रभात*
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
मेरे पिता
मेरे पिता
Dr.Pratibha Prakash
काश ये
काश ये
हिमांशु Kulshrestha
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
Paras Nath Jha
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
माटी के रंग
माटी के रंग
Dr. Kishan tandon kranti
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
Loading...