Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

■ बस एक ही सवाल…

■ बस एक ही सवाल…

121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
Ravi Betulwala
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
संवेदनाएं जिंदा रखो
संवेदनाएं जिंदा रखो
नेताम आर सी
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
Phool gufran
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Parveen Thakur
"सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
छंद -रामभद्र छंद
छंद -रामभद्र छंद
Sushila joshi
Game of the time
Game of the time
Mangilal 713
*जी लो ये पल*
*जी लो ये पल*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* बचाना चाहिए *
* बचाना चाहिए *
surenderpal vaidya
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
माँ
माँ
संजय कुमार संजू
Hey....!!
Hey....!!
पूर्वार्थ
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
VINOD CHAUHAN
"राजनीति में आत्मविश्वास के साथ कही गई हर बात पत्थर पर लकीर
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सम्मान
सम्मान
Sunil Maheshwari
2803. *पूर्णिका*
2803. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
■ प्रणय_गीत:-
■ प्रणय_गीत:-
*प्रणय प्रभात*
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
"" *महात्मा गाँधी* ""
सुनीलानंद महंत
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
Loading...