Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2023 · 1 min read

■ दोहा / पर्व का संदेश

■ दोहा
आज के पर्व का संदेश
【प्रणय प्रभात】
हमारी सत्य-सनातन धर्म संस्कृति के सभी पर्व-उत्सव किसी न किसी संदेश के संवाहक है। फिर चाहे वो संदेश धार्मिक, आध्यात्मिक, सांस्कृतिक कैसा भी क्यों न हो। कुछ के पीछे वैज्ञानिक अवधारणाएं हैं तो कुछ के पीछे मानवीय सम्वेदनाएँ और सामाजिक सरोकार। ऐसा ही पर्व है “मकर संक्रांति”, जो दायक के प्रति कृतज्ञता का परिचायक है। एक संदेश मैंने भी खोजा। जो दोहे की सूरत में प्रस्तुत है।

Language: Hindi
1 Like · 317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*करिश्मा एक कुदरत का है, जो बरसात होती है (मुक्तक)*
*करिश्मा एक कुदरत का है, जो बरसात होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अवसाद का इलाज़
अवसाद का इलाज़
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
विषय -परिवार
विषय -परिवार
Nanki Patre
मुक्तक
मुक्तक
कृष्णकांत गुर्जर
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
आखिर वो माँ थी
आखिर वो माँ थी
Dr. Kishan tandon kranti
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
रोटी की ख़ातिर जीना जी
रोटी की ख़ातिर जीना जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
2851.*पूर्णिका*
2851.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
कभी कभी भाग दौड इतना हो जाता है की बिस्तर पे गिरने के बाद कु
पूर्वार्थ
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
जय लगन कुमार हैप्पी
????????
????????
शेखर सिंह
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
होली रो यो है त्यौहार
होली रो यो है त्यौहार
gurudeenverma198
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मां
मां
Sûrëkhâ Rãthí
जग-मग करते चाँद सितारे ।
जग-मग करते चाँद सितारे ।
Vedha Singh
सरस्वती बंदना
सरस्वती बंदना
Basant Bhagawan Roy
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...