Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2024 · 1 min read

■ तो समझ लेना-

■ तो समझ लेना-
【प्रणय प्रभात】
“जब मृतात्माऐं क़ब्र फाड़ कर बाहर निकल आऐं और अपने जीवित होने का सुबूत कोहराम मचाते हुए देने लगें।
चारों तरफ शोर-गुल व हलचल बढ़ जाए और आम आदमी रातों-रात ख़ास नज़र आने लगे।
बेसहारों को चारा-पानी नसीब होने लग जाए और मुर्दा संगठन व संस्थाऐं अकस्मात क्रियाशील हो उठें।
सदियों पहले के दिवंगत और मर-खप चुके जीव अचानक पूजित हो सुर्खियों में आ जाएं तथा लौंग-अदरक जैसी तीखी ज़ुबानों से इलायची की सुगंध के साथ शहद टपकने लगे तो समझ लेना चाहिए कि चुनाव सिर पर हैं।”

2 Likes · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
हूं बहारों का मौसम
हूं बहारों का मौसम
साहित्य गौरव
3270.*पूर्णिका*
3270.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*श्रमिक मजदूर*
*श्रमिक मजदूर*
Shashi kala vyas
आदमी की आँख
आदमी की आँख
Dr. Kishan tandon kranti
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-331💐
💐प्रेम कौतुक-331💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आंधी
आंधी
Aman Sinha
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
रात सुरमई ढूंढे तुझे
रात सुरमई ढूंढे तुझे
Rashmi Ratn
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
गोलू देवता मूर्ति स्थापना समारोह ।
गोलू देवता मूर्ति स्थापना समारोह ।
श्याम सिंह बिष्ट
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
आखिर कब तक इग्नोर करोगे हमको,
शेखर सिंह
स्वयं को तुम सम्मान दो
स्वयं को तुम सम्मान दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां शारदे वंदना
मां शारदे वंदना
Neeraj Agarwal
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
Shekhar Chandra Mitra
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
*Author प्रणय प्रभात*
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
होली आयी होली आयी
होली आयी होली आयी
Rita Singh
Loading...