Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2023 · 1 min read

■ तेवरी / देसी ग़ज़ल

😊 हिंदी ग़ज़ल…
उनके आंसू कौन संभाले…..?
【प्रणय प्रभात】
★ जिनके दिल बादल से काले।
उनके आंसू कौन संभाले।।

★ जो ना समझें पीर पराई।
कौन गिनेगा उनके छाले।।

★ आप संभालें अपनी दुनिया।
हम कर बैठे राम हवाले।।

★ सच में भुला चुके हैं सब कुछ।
याद न आओ, बैठे-ठाले।।

★ बड़ी अकड़ थी शान किसी की।
आज दिख रहे ढीले-ढाले।।

★ कूट-कूट छल-दंभ भरा है।
बस सूरत से भोले-भाले।।

★ आज फ़िक़र दाना-पानी की।
ख़ूब अदा के पंछी पाले।।

★ सम्बंधो का निकल चुका दम।
बस बातें करते हैं साले।।

★ जोड़-जोड़ दीवार उठा लो।
कोई पत्थर अगर उछाले।।

1 Like · 424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"नामुमकिन"
Dr. Kishan tandon kranti
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अध्याय 6*
*अध्याय 6*
Ravi Prakash
प्लास्टिक बंदी
प्लास्टिक बंदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*तेरी मेरी कहानी*
*तेरी मेरी कहानी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
जो हुआ वो गुज़रा कल था
जो हुआ वो गुज़रा कल था
Atul "Krishn"
*आत्म-मंथन*
*आत्म-मंथन*
Dr. Priya Gupta
Miss you Abbu,,,,,,
Miss you Abbu,,,,,,
Neelofar Khan
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शुक्र है, मेरी इज्जत बच गई
शुक्र है, मेरी इज्जत बच गई
Dhirendra Singh
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
Sanjay ' शून्य'
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
जमाना चला गया
जमाना चला गया
Pratibha Pandey
आप क्या समझते है जनाब
आप क्या समझते है जनाब
शेखर सिंह
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
🙅भड़ास🙅
🙅भड़ास🙅
*प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
Sonam Puneet Dubey
घर-घर तिरंगा
घर-घर तिरंगा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
लोगों के रिश्मतों में अक्सर
लोगों के रिश्मतों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता
Jogendar singh
है प्रीत बिना  जीवन  का मोल  कहाँ देखो,
है प्रीत बिना जीवन का मोल कहाँ देखो,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
वो आइने भी हर रोज़ उसके तसव्वुर में खोए रहते हैं,
वो आइने भी हर रोज़ उसके तसव्वुर में खोए रहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
भोर के ओस!
भोर के ओस!
कविता झा ‘गीत’
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
मिला कुछ भी नहीं खोया बहुत है
अरशद रसूल बदायूंनी
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
सपने कीमत मांगते है सपने चाहिए तो जो जो कीमत वो मांगे चुकने
पूर्वार्थ
Loading...