Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2024 · 1 min read

■ ताज़ा शेर ■

■ ताज़ा शेर ■

“फ़र्क़ फ़ितरत का समझ या वक़्त का।
जान तू अब भी है लेकिन और की।।”

◆प्रणय प्रभात◆

1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#एक_सराहनीय_पहल
#एक_सराहनीय_पहल
*Author प्रणय प्रभात*
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
Ritu Asooja
मायका
मायका
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
शेखर सिंह
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
*कविवर रमेश कुमार जैन की ताजा कविता को सुनने का सुख*
Ravi Prakash
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
ସାଧନାରେ କାମନା ବିନାଶ
Bidyadhar Mantry
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
"रेलगाड़ी सी ज़िन्दगी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
रखो अपेक्षा ये सदा,  लक्ष्य पूर्ण हो जाय
रखो अपेक्षा ये सदा, लक्ष्य पूर्ण हो जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता और पुत्र
पिता और पुत्र
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2979.*पूर्णिका*
2979.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
मैं गलत नहीं हूँ
मैं गलत नहीं हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
"प्रेम रोग"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
" वो क़ैद के ज़माने "
Chunnu Lal Gupta
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...