Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2023 · 1 min read

■ #ग़ज़ल / #कर_ले

#ग़ज़ल
■ ख़यालों को खिलौना कर ले।।
【प्रणय प्रभात】

◆ हाथ को मोड़ के थोड़ा सा तिकोना कर ले।
थक गया हो तो ज़मीं को ही बिछौना कर ले।।

◆ दिल के दरबार में आना है जो चाहत तेरी।
अपनी लंबाई को दहलीज़ पे बोना कर ले।

◆ खुरदुरे बोल में मरमर सी चमक आएगी,
अपने एहसास को थोड़ा सा सलोना कर ले।।

◆ कुछ नहीं रक्खा है दानिशवरों की दुनिया में,
दिल है बच्चे सा ख़यालों को खिलौना कर ले।।

◆ हर क़दम आंच दहकती है ग़मों की इस जा।
रोकता कौन है जा रूह को सोना कर ले।।

◆ छोड़ दे टोटके ताबीज़ ये जंतर मंतर।
चाशनी सोच से हर एक पे टोना कर ले।।

● देखने वाला नहीं कोई भी आंसू तेरे।
अपने क़ाबू में ये हालात का रोना कर ले।।

■प्रणय प्रभात■
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

Language: Hindi
1 Like · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
दिल का तुमसे सवाल
दिल का तुमसे सवाल
Dr fauzia Naseem shad
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
शेखर सिंह
पिछले पन्ने भाग 1
पिछले पन्ने भाग 1
Paras Nath Jha
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
Manoj Mahato
वो तो है ही यहूद
वो तो है ही यहूद
shabina. Naaz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
Anand Kumar
साथ था
साथ था
SHAMA PARVEEN
फ़िलहाल देश को सबसे बड़ी ज़रुरत समर्थ और सशक्त विपक्ष की।
फ़िलहाल देश को सबसे बड़ी ज़रुरत समर्थ और सशक्त विपक्ष की।
*प्रणय प्रभात*
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
SPK Sachin Lodhi
हो....ली
हो....ली
Preeti Sharma Aseem
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
कवि रमेशराज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3541.💐 *पूर्णिका* 💐
3541.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
पिता
पिता
Kanchan Khanna
सच तो हम और आप ,
सच तो हम और आप ,
Neeraj Agarwal
" वो दौलत "
Dr. Kishan tandon kranti
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
Jyoti Khari
What can you do
What can you do
VINOD CHAUHAN
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
*समान नागरिक संहिता गीत*
*समान नागरिक संहिता गीत*
Ravi Prakash
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
Loading...