Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2022 · 1 min read

■ काव्यात्मक व्यंग्य / एक था शेर…..!!

■ काव्यात्मक व्यंग्य
■ एक था शेर…..!!
【 प्रणय प्रभात
“एक शेर था,
बड़ा ज़िद्दी, क्रोधी और अकडेल था!
किसी से सीधे मुंह बात करना,
उसकी शान के खिलाफ़ था!
मा-बाप डरते थे,
खुशामद करते थे,
मोहल्ला थर्राता था, हर कोई घबराता था!
साक्षात यमराज था, स्वभाव लाइलाज था!
अब शेर शांत है,
अकड़ छू-मन्तर हो चुकी है!
गुस्सा भूल चुका है,
चुप रहना क़बूल चुका है!
कुछ साल हुए,,,,,
हालात से निबाह कर चुका है….
पता चला है कि बेचारा विवाह कर चुका है।।”

Language: Hindi
3 Likes · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
जब से मेरी आशिकी,
जब से मेरी आशिकी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ताप जगत के झेलकर, मुरझा हृदय-प्रसून।
ताप जगत के झेलकर, मुरझा हृदय-प्रसून।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
Shreedhar
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
Kshma Urmila
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
■ आंसू माने भेदिया।
■ आंसू माने भेदिया।
*Author प्रणय प्रभात*
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
Ravi Prakash
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
वो सपने, वो आरज़ूएं,
वो सपने, वो आरज़ूएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रहता हूँ  ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
रहता हूँ ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
Mohd Anas
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
Ranjeet kumar patre
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
हम भी अपनी नज़र में
हम भी अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"झूठे लोग "
Yogendra Chaturwedi
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
मां
मां
Amrit Lal
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
Loading...