Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2023 · 1 min read

■ काब्यमय प्रयोगधर्म

■ प्रयोगात्मक कवित-
(राष्ट्रगीत के मुखड़े के हर शब्द पर केंद्रित लघु-कविता)
【प्रणय प्रभात】
“जन” जितने सारे आहत।
“गण” जितने पाते राहत।
“मन” व्याकुल करता क्रंदन ।
“अधिनायक” का अभिनंदन।।
“जय” कहने में क्या जाता?
“है” माता आखिर माता।।
“भारत” वर्ष रहे आबाद।
“भाग्य-विधाता” ज़िंदाबाद।।
😊😊😊😊😊😊😊😊😊

1 Like · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
प्यार है,पावन भी है ।
प्यार है,पावन भी है ।
Dr. Man Mohan Krishna
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
दीदार
दीदार
Vandna thakur
इबादत आपकी
इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
सुलोचना
सुलोचना
Santosh kumar Miri
जो क्षण भर में भी न नष्ट हो
जो क्षण भर में भी न नष्ट हो
PRADYUMNA AROTHIYA
पुष्प
पुष्प
Dinesh Kumar Gangwar
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
2847.*पूर्णिका*
2847.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संतोष करना ही आत्मा
संतोष करना ही आत्मा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुदा सा लगता है।
खुदा सा लगता है।
Taj Mohammad
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
Ravi Prakash
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
अब नरमी इतनी भी अच्छी नही फितरत में ।
अब नरमी इतनी भी अच्छी नही फितरत में ।
Ashwini sharma
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
"मैं-मैं का शोर"
Dr. Kishan tandon kranti
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
singh kunwar sarvendra vikram
नेता जी
नेता जी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
Sonam Puneet Dubey
हर इश्क में रूह रोता है
हर इश्क में रूह रोता है
Pratibha Pandey
इंडियन सेंसर बोर्ड
इंडियन सेंसर बोर्ड
*प्रणय प्रभात*
Loading...