Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

■ कटाक्ष…

■ कटाक्ष…

Language: Hindi
1 Like · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
Jitendra Chhonkar
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
Indulge, Live and Love
Indulge, Live and Love
Dhriti Mishra
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
2602.पूर्णिका
2602.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*पंचचामर छंद*
*पंचचामर छंद*
नवल किशोर सिंह
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
तन्हाई
तन्हाई
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*कुहरा दूर-दूर तक छाया (बाल कविता)*
*कुहरा दूर-दूर तक छाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
जगदीश शर्मा सहज
औरत
औरत
Shweta Soni
स्त्री
स्त्री
Dinesh Kumar Gangwar
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
आंखे मोहब्बत की पहली संकेत देती है जबकि मुस्कुराहट दूसरी और
आंखे मोहब्बत की पहली संकेत देती है जबकि मुस्कुराहट दूसरी और
Rj Anand Prajapati
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
Seema gupta,Alwar
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
ruby kumari
धूल
धूल
नन्दलाल सुथार "राही"
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
#सारे_नाते_स्वार्थ_के 😢
#सारे_नाते_स्वार्थ_के 😢
*Author प्रणय प्रभात*
जिस घर में---
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
आ गए चुनाव
आ गए चुनाव
Sandeep Pande
Loading...