Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2023 · 1 min read

■ उल्लू छाप…बिचारे

■ मनहूसियत के मारे
【प्रणय प्रभात】
“जो हैं क़ाबिले-दीद नहीं।
उनसे कोई उम्मीद नहीं।।
उन्हें पसंद फ़क़त मातम।
दीवाली या ईद नहीं।।”
आज की यह चार पंक्तियाँ आदतन बेचारगी और स्वाभाविक लाचारगी के प्रतीकों के लिए हैं। जिन्हें सामाजिक सरोकारों से विमुख होने के कारण वैचारिक और व्यावहारिक असामाजिक
भी कहा जा सकता है। जो न घर के माने जा सकते हैं न घाट के।
इन्हें देख कर ही ज्ञान होता है कि उल्लू केवल शाखों पर नहीं, समाज में भी होते हैं। जिनके चेहरे पर हमेशा मातम की छाया दिखाई देती है। ख़ुशी के पल उन्हें नागवार होते हैं। ऐसे लोग किसी दीन-धरम के नहीं होते। न वर्तमान के लिहाज से और ना ही भविष्य के नज़रिए से।।

1 Like · 378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
Take responsibility
Take responsibility
पूर्वार्थ
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
.
.
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*मुदित युगल सरकार खेलते, फूलों की होली (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*मुदित युगल सरकार खेलते, फूलों की होली (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
💐प्रेम कौतुक-280💐
💐प्रेम कौतुक-280💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोस्ती
दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
एक
एक "स्वाभिमानी" को
*Author प्रणय प्रभात*
अस्मिता
अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
💐💐दोहा निवेदन💐💐
💐💐दोहा निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
कवि रमेशराज
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्रिकेटी हार
क्रिकेटी हार
Sanjay ' शून्य'
Loading...