Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2023 · 3 min read

■ आस्था के आयाम…

#जंगल_में_मंगल
■ वनांचल में आस्था का द्वार : माँ का प्राचीन दरबार
★ दिन में तीन रूप बदलती हैं माँ अन्नपूर्णा
★ दरबार मे रोज़ बढ़ रहा है भीड़ का आकार
【प्रणय प्रभात】
वन-बहुल श्योपुर ज़िले के वनांचल में स्थित ग्राम पनवाड़ा के श्री अन्नपूर्णा दरबार मे इन दिनों आस्था का ज्वार उमड़ रहा है। जिसके आकार में आगामी 28 मार्च (सप्तमी) से अपार वृद्धि तय मानी जा रही है। जिसकी वजह बनेगा 30 मार्च (नवमी) तक चलने वाला पारंपरिक मेला। जिसके चलते ज़िले के तमाम रास्ते इस वनांचल ग्राम की ओर मुड़ते दिखाई देंगे। उमड़ती भीड़ के बीच तमाम भक्त कनक-दंडवत कर माता रानी के दरबार की ओर अग्रसर दिखेंगे। वहीं बड़ी संख्या में भक्तों द्वारा चुनरी, ध्वज व नेज़े चढ़ा कर अपनी भक्ति-भावना का परिचय देंगे।
आंचलिक शक्तिपीठ के रूप में मान्य इस प्राचीन मंदिर में हाज़िरी लगाने के लिए पहले दिन से पहुंच रहे भक्त तीखी धूप व गर्मी की मार से बेपरवाह नज़र आ रहे हैं। जो इस स्थल के प्रति उनकी दीर्घकालिक श्रद्धा का प्रमाण है। चैत्र नवरात्रि के पहले दिन से भक्तों की भीड़ में लगातार बढ़ोत्तरी जंगल मे मंगल की उक्ति को चरितार्थ कर रही है। आगामी सप्तमी, अष्टमी व नवमी पर उमड़ने वाले अपार जनसैलाब के मद्देनज़र जनपद सहित प्रशासन व पुलिस द्वारा हरसंभव प्रयास व प्रबंधों के दावे किए जा रहे हैं। जिनकी सत्यता आने वाले दिनों में ही साबित हो सकेगी।
कनक दंडवत व पदयात्रा कर दरबार तक पहुंचने वाले भक्त चुनरी, ध्वज और नेज़े लेकर कूच करने की तैयारी में है। जिनमे सबसे बड़ी संख्या वनांचल-वासी परिवारों की होगी। जयघोषों और भजनों की धूम पहले दिन से निरंतर बढ़ रही है। माता रानी के हर दिन तीन रूपों में दर्शन देने की मान्यता इस दरबार को बेहद रोमांचक व चमत्कारी बनाती है।जो दशकों से एक केिवदंति के रूप से प्रचलित है। जिसका आभास दर्शनार्थियों को अरसे से होता भी आ रहा है। सुबह कन्या, दोपहर में युवती व शाम को वृद्धा दिखाई देती है मातारानी की स्वयंभू प्रतिमा सदियों पुरानी व स्व-प्रकट है। जिसके दर्शन मन की मुरादें पूरी करने वाले हैं।
क़रीब चार दशक पहले तक उक्त मंदिर एक मढ़ैया जैसा था। घने जंगल के बीच विराजित अन्नपूर्णा माता के दर्शन आज की तरह आसान नहीं थे। कंटीली झाड़ियों के बीच ऊबड़-खाबड़ पगडण्डी भक्तों को दरबार तक ले जाती थी। जहां सुविधा या सुरक्षा के नाम पर कोई प्रावधान नहीं था। आज हालात पूरी तरह बदल गए हैं। कराहल तहसील मुख्यालय से गुज़रते राजमार्ग से ग्राम पनवाड़ा के लिए पक्की सड़क है। जिसका संकेत राजमार्ग पर नज़र आता बड़ा सा सिंह-द्वार देता है। अब गांव भी अच्छा-ख़ासा आबाद है। मंदिर बड़ा, पक्का और सुविधायुक्त हो गया है। जिसके बाहर नवरात्रि में हर चीज़ अस्थाई दुकानों पर मिल जाती है। सिंह-द्वार से दरबार तक ऑटो से लेकर बस तक सभी तरह के वाहन मुहैया हैं। सुरक्षा को लेकर भी कोई बड़ा संकट नहीं रहा है। भक्तजन निष्कंटक मातारानी की शरण में पहुंच सकते हैं। यही कारण है कि अब उक्त आस्था केंद्र वर्ष भर श्रद्धालुओं की आसान पहुंच में है।
【सम्पादक】
न्यूज़ & व्यूज़

1 Like · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जीवन
जीवन
Mangilal 713
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वैसे अपने अपने विचार है
वैसे अपने अपने विचार है
शेखर सिंह
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"आफ़ताब"
Dr. Kishan tandon kranti
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
Rj Anand Prajapati
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
कवि दीपक बवेजा
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
कोई दुनिया में कहीं भी मेरा, नहीं लगता
कोई दुनिया में कहीं भी मेरा, नहीं लगता
Shweta Soni
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
"गमलों में पौधे लगाते हैं,पेड़ नहीं".…. पौधों को हमेशा अतिरि
पूर्वार्थ
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
अब तुझे रोने न दूँगा।
अब तुझे रोने न दूँगा।
Anil Mishra Prahari
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
Bahut fark h,
Bahut fark h,
Sakshi Tripathi
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
Jitendra Chhonkar
जीवन के किसी भी
जीवन के किसी भी
Dr fauzia Naseem shad
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
Loading...