Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

■ आज की ग़ज़ल

#ग़ज़ल
■ आज़ाद कर दिया मैने…
【प्रणय प्रभात- – 】

– एक नाशाद को फिर शाद कर दिया मैंने।
कल उसे क़ैद से आज़ाद कर दिया मैंने।।
– मुझको मालूम है कल हर ज़ुबान पर होगा।
एक किस्सा जिसे रूदाद कर दिया मैंने।।
– ख़्वाब में शोर मचाती थी याद की चिड़िया।
हार के नींद को सय्याद कर दिया मैंने।।
– मेरे अशआर के हर गुल को चमक दे देगा।
ढेर यादों का, जिसे खाद कर दिया मैंने।।
– आदतन दिल ज़रा शीरीं बना लिया उसने।
बेसबब रूह को फ़रहाद कर दिया मैंने।।
– रख दिए बिखरे हुए वर्क़ उठा कर उसने।
वक़्त जिस शख़्स का बर्बाद कर दिया मैंने।।

1 Like · 104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दलित समुदाय।
दलित समुदाय।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सफर वो जिसमें कोई हमसफ़र हो
सफर वो जिसमें कोई हमसफ़र हो
VINOD CHAUHAN
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
shambhavi Mishra
3100.*पूर्णिका*
3100.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
जिंदगी, क्या है?
जिंदगी, क्या है?
bhandari lokesh
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हे मां शारदे ज्ञान दे
हे मां शारदे ज्ञान दे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वारिस हुई
वारिस हुई
Dinesh Kumar Gangwar
*होटल राजमहल हुए, महाराज सब आम (कुंडलिया)*
*होटल राजमहल हुए, महाराज सब आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
Rj Anand Prajapati
दोहा
दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
पवित्र मन
पवित्र मन
RAKESH RAKESH
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
Dr fauzia Naseem shad
'एकला चल'
'एकला चल'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...