Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2023 · 1 min read

■ आज का विचार

■ ख़ुद सोचिए…
जहाँ अपने आपके ख़िलाफ़ बिगुल फूंक कर आपका बेंड बजाने पर आमादा हों, वहां ग़ैरों पर भरोसे की कितनी गुंजाइश बाक़ी रहती है??
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 487 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2895.*पूर्णिका*
2895.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
सपना
सपना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
"कहानी मेरी अभी ख़त्म नही
पूर्वार्थ
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
■ प्रणय के मुक्तक
■ प्रणय के मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
एक औरत की ख्वाहिश,
एक औरत की ख्वाहिश,
Shweta Soni
★HAPPY BIRTHDAY SHIVANSH BHAI★
★HAPPY BIRTHDAY SHIVANSH BHAI★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
"सफर अधूरा है"
Dr. Kishan tandon kranti
एकांत
एकांत
Monika Verma
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
रंग भरी पिचकारियाँ,
रंग भरी पिचकारियाँ,
sushil sarna
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
Rituraj shivem verma
उधेड़बुन
उधेड़बुन
Dr. Mahesh Kumawat
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
Ranjeet kumar patre
Loading...