Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 2 min read

■मंज़रकशी :–

#नज़्म_यादों_के_झरोखे_से :–
■ एक कहानी, जो है रूमानी.….!
● धड़कते हुए जवां दिलों के नाम।
【प्रणय प्रभात】

वक़्त हो तो आइए,
इक दास्तां सुन लीजिए।
कुछ रुमानी ख़्वाब अपनी,
आँख में बुन लीजिए।।
इश्क़ कैसे जागता है
जागती हैं ख़्वाहिशें।
दो दिलों को किस तरह से
जोड़ती हैं बारिशें।।
आज भीगी सी है रुत
महकी हुई सी रात है।
हम जवां होने को थे
ये उन दिनों की बात है।।
था वो महीना जून का
हो कर चुकी बरसात थी।
थोड़ी तपिश थी आसमां पे
अब्र की बारात थी।।
वाकिफ़ नहीं थे इश्क़ से
ना आशिक़ी के रंग में।
मासूम सी इक गुलबदन
अल्हड़ सी लड़की संग में।।
पहचान थी कुछ रोज़ की
ज़्यादा न जाना था उसे।
था हुक्म घर वालों का तो
घर छोड़ आना था उसे।।
घर से निकल कुछ देर में
कच्ची सड़क पर आ गए।
इके बार फिर से आसमां पे
काले बादल छा गए।।
घर दूर था उसका अभी
रफ़्तार बेहद मंद थी।
बरसात के आसार थे
बहती हवा अब बंद थी।।
मौसम के तेवर भांप कर
संकोच अपना छोड़ कर।
कुछ तेज़ चलिए ये कहा
मैने ही चुप्पी तोड़ कर।।
ठिठकी, रुकी, बोली लगा
झरना अचानक से बहा।
मैंने सुना उस शोख़ ने
इक अटपटा जुमला कहा।
थे लफ़्ज़ मामूली मगर
मानी दुधारी हो गए।
बेसाख़्ता बोली वो मेरे
पाँव भारी हो गए।।
ये तो समझ आया नहीं
दिल आह बोले या कि वाह।
मासूम से चेहरे पे उसके
थम गई मेरी निगाह।
एकटक देखा उसे
मौसम शराबी हो गया
मरमरी रूख शर्म से
बेहद ग़ुलाबी हो गया।।
पल भर में ख़ुद की बात
ख़ुद उसकी समझ मे आ गई।
क्या कह गई ये सोच के
वो नाज़नीं शरमा गई।।
नीचे निगाहें झुक गई।
लब भी लरज़ने लग गए।
बरसात होने लग गई
बादल गरजने लग गए।।
नज़रों से नज़रें मिल गईं
माहौल में कुछ रस घुला।
उसने दिखाया पाँव अपना
राज़ तब जाकर खुला।।
भीगी हुई मिट्टी में जब
लिथड़ी दिखीं थीं जूतियां।
पाँव भारी क्यों हुए थे
ये समझ आया मियां।।
वाक़या छोटा था पर
इक ख़ास किस्सा हो गया।।
मुख़्तसर सा वो सफ़र
यादों का हिस्सा हो गया।।
★संपादक/न्यूज़&व्यूज़★
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आस्था
आस्था
Neeraj Agarwal
मेरा स्वप्नलोक
मेरा स्वप्नलोक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
#बाउंसर :-
#बाउंसर :-
*Author प्रणय प्रभात*
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
Sahil Ahmad
वीर-जवान
वीर-जवान
लक्ष्मी सिंह
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
Irshad Aatif
"जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
होली
होली
Dr Archana Gupta
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-368💐
💐प्रेम कौतुक-368💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मंथन
मंथन
Shyam Sundar Subramanian
शहरी हो जरूर तुम,
शहरी हो जरूर तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
रावण की गर्जना व संदेश
रावण की गर्जना व संदेश
Ram Krishan Rastogi
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
माँ
माँ
shambhavi Mishra
!! फूलों की व्यथा !!
!! फूलों की व्यथा !!
Chunnu Lal Gupta
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
2734. *पूर्णिका*
2734. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
एहसास
एहसास
Shutisha Rajput
आज की प्रस्तुति: भाग 4
आज की प्रस्तुति: भाग 4
Rajeev Dutta
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...