Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

దేవత స్వరూపం గో మాత

దేవత స్వరూపం గో మాత
అమృతం పంచె గో మాత
సకల దేవతల రూపం గో మాత
శాంతి తత్వం, ప్రశాంత స్వరూపం.
అందరికీ ఆయువు పంచె గోమాత
అందరికి ఆరోగ్యాన్ని పంచె గోమాత
దేవుడిచ్చిన గొప్ప వరం గోమాత
భగవంతుడు కూడా పూజించే గో మాత
మనల్ని చల్లగా చూసే గోమాత.
గోమాత ను రక్షిద్దాం.
ప్రజా హితము కోరుదాం.

రచన
డా. గుండాల విజయ కుమార్

60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
जगदीश लववंशी
कौन किसकी कहानी सुनाता है
कौन किसकी कहानी सुनाता है
Manoj Mahato
😊■रोज़गार■😊
😊■रोज़गार■😊
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
होता ओझल जा रहा, देखा हुआ अतीत (कुंडलिया)
होता ओझल जा रहा, देखा हुआ अतीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
लक्ष्य
लक्ष्य
Suraj Mehra
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
गरिबी र अन्याय
गरिबी र अन्याय
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसे भुलाने के सभी,
उसे भुलाने के सभी,
sushil sarna
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
Chunnu Lal Gupta
जलियांवाला बाग
जलियांवाला बाग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
पूर्वार्थ
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
आएंगे तो मोदी ही
आएंगे तो मोदी ही
Sanjay ' शून्य'
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
विरह
विरह
Neelam Sharma
स्वयं को स्वयं पर
स्वयं को स्वयं पर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...