Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

అతి బలవంత హనుమంత

అతి బలవంత హనుమంత హనుమంత
అతి గుణవంత
హనుమంత హనుమంత

రామ బంటువు నీవయ్య.
హనుమయ్యా
తత్వ జ్ఞానము నీదయ్య.
నీవయ్య.
చిరంజీవివి నీవయ్య
హనుమయ్యా
పంచ రూపము నీదయ్య.
నీవయ్యా.

భక్తవత్సలవు నీ వయ్యా..
హనుమయ్యా..
రుద్రావతరము నీదయ్య
నీవయ్య
దీనబంధువు నీ వయ్యా
హనుమయ్యా..
వజ్రకాయము నీ వయ్యా
నీదయ్య.

రచన
డా. గుండాల విజయ కుమార్

1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे   परीकल्पनाओं   की   परिणाम   हो  तुम
मेरे परीकल्पनाओं की परिणाम हो तुम
पूर्वार्थ
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
कृष्णकांत गुर्जर
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
Tum makhmal me palte ho ,
Tum makhmal me palte ho ,
Sakshi Tripathi
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
2482.पूर्णिका
2482.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"भव्यता"
*Author प्रणय प्रभात*
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
पागलपन
पागलपन
भरत कुमार सोलंकी
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
मत याद करो बीते पल को
मत याद करो बीते पल को
Surya Barman
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
........
........
शेखर सिंह
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
" आज भी है "
Aarti sirsat
उसे भुलाने के सभी,
उसे भुलाने के सभी,
sushil sarna
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
Loading...