Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2024 · 1 min read

ସେହି କୁକୁର

ସେହି କୁକୁର
+++++++++++++++

ପ୍ରକୃତରେ…
କୁକୁର ଭଲ ହୋଇଥାଏ
ଏହାର କାରଣ…
ସେମାନେ ସ୍ୱାଭାବିକ ଅଛନ୍ତି
ମନୁଷ୍ୟକୁ ଦେଖୁଛନ୍ତି
ଶୁଣିବା ଆରମ୍ଭ କରନ୍ତୁ ….
ଅଦ୍ଭୁତ ମାନବ ଚିତ୍ର…
ଅଦ୍ଭୁତ ଲୋକଙ୍କୁ ଦେଖି ଭୁକିବା…
ସେମିତି ଭୁକିବାରେ
ସେମାନେ ଶୁଣୁଛନ୍ତି…
ସୁଖ ମିଳୁନାହିଁ
ଇଚ୍ଛା ନାହିଁ
ତେବେ…
ସେହି କୁକୁର
ଏହା କେବଳ ଶବ୍ଦକୁ ସଂକୁଚିତ କରୁଛି
ବିନା କୌଣସି ତ୍ରୁଟିରେ
ସେହି ରାସ୍ତାରେ
ପ୍ରତିଦିନ ….

+ ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
या खुदा तेरा ही करम रहे।
या खुदा तेरा ही करम रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
हरा-भरा बगीचा
हरा-भरा बगीचा
Shekhar Chandra Mitra
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
अनिल कुमार
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का क़तआ (मुक्तक) 😘😘
■ आज का क़तआ (मुक्तक) 😘😘
*Author प्रणय प्रभात*
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे सनम
मेरे सनम
Shiv yadav
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
संतुलित रहें सदा जज्बात
संतुलित रहें सदा जज्बात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
*अपना भारत*
*अपना भारत*
मनोज कर्ण
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
Ravi Prakash
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
Neeraj Mishra " नीर "
और मौन कहीं खो जाता है
और मौन कहीं खो जाता है
Atul "Krishn"
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
2630.पूर्णिका
2630.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...