Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ

ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ଗଛରେ ଫୁଲ
ସେହି ପ୍ରଜାପତିମାନେ
ସୁନ୍ଦର ଭାବରେ ଉପଭୋଗ କରନ୍ତି

– ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कारोबार
कारोबार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"" *सिमरन* ""
सुनीलानंद महंत
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
Seema gupta,Alwar
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
इश्क़
इश्क़
हिमांशु Kulshrestha
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
Ranjeet kumar patre
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
कोई गुरबत
कोई गुरबत
Dr fauzia Naseem shad
prAstya...💐
prAstya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुंदर नाता
सुंदर नाता
Dr.Priya Soni Khare
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लालच
लालच
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे
दोहे
Santosh Soni
*हल्दी (बाल कविता)*
*हल्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
*हमारा विनाश कव शुरू हुआ था?* 👉🏻
*हमारा विनाश कव शुरू हुआ था?* 👉🏻
Rituraj shivem verma
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
शुभ संकेत जग ज़हान भारती🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बिकाऊ मीडिया को
बिकाऊ मीडिया को
*प्रणय प्रभात*
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Surinder blackpen
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...