Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে

আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
লাগছে প্রলয আসবো আসবো করে আমাকে ডাকছে
এ কেবলই কী ভাবনা মোর
না কারোর সাজানো মায়াভরা মায়াডোর।

1 Like · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
Gouri tiwari
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
The_dk_poetry
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात  ही क्या है,
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात ही क्या है,
Shreedhar
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उन यादों को
उन यादों को
Dr fauzia Naseem shad
"बिना बहर और वज़न की
*Author प्रणय प्रभात*
थोड़ा थोड़ा
थोड़ा थोड़ा
Satish Srijan
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
Ravi Prakash
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
उस पद की चाहत ही क्या,
उस पद की चाहत ही क्या,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
★
पूर्वार्थ
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...