Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

१) खुशबु

अन्जाने रिश्तों की खुसबु-
अन्जान
मन भृमर मँडराता
अकर्मी नादान।

Language: Hindi
258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
देशभक्ति
देशभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दुनिया
दुनिया
Jagannath Prajapati
घर में बचा न एका।
घर में बचा न एका।
*Author प्रणय प्रभात*
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
Jitendra Chhonkar
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
*पाई कब छवि ईश की* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
Dushyant Kumar
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पीड़ा भी मूक थी
पीड़ा भी मूक थी
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
मोबाइल महिमा
मोबाइल महिमा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अधूरी हसरतें
अधूरी हसरतें
Surinder blackpen
माँ
माँ
श्याम सिंह बिष्ट
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
Loading...