Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 3 min read

*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*

☘🌱☘🌱☘🌱☘🌱☘🌱☘

एक ब्राह्मणी थी जो बहुत निर्धन थी। भिक्षा माँग कर जीवन-यापन करती थी।
एक समय ऐसा आया कि पाँच दिन तक उसे भिक्षा नहीं मिली। वह प्रति दिन पानी पीकर भगवान का नाम लेकर सो जाती थी।
छठवें दिन उसे भिक्षा में दो मुट्ठी चने मिले। कुटिया पर पहुँचते-पहुँचते रात हो गयी।
ब्राह्मणी ने सोचा अब ये चने रात मे नही खाऊँगी प्रात:काल वासुदेव को भोग लगाकर खाऊँगी।
यह सोचकर ब्राह्मणी ने चनों को कपडे़ में बाँधकर रख दिया और वासुदेव का नाम जपते-जपते सो गयी।
देखिये समय का खेल…
कहते हैं…
पुरुष बली नहीं होत है, समय होत बलवान।
ब्राह्मणी के सोने के बाद कुछ चोर चोरी करने के लिए उसकी कुटिया मे आ गये।
इधर उधर बहुत ढूँढा, चोरों को वह चनों की बँधी पोटली मिल गयी। चोरों ने समझा इसमें सोने के सिक्के होंगे।
इतने मे ब्राह्मणी जाग गयी और शोर मचाने लगी।
गाँव के सारे लोग चोरों को पकडने के लिए दौडे़। चोर वह पोटली लेकर भागे।
पकडे़ जाने के डर से सारे चोर संदीपन मुनि के आश्रम में छिप गये।
संदीपन मुनि का आश्रम गाँव के निकट था जहाँ भगवान श्री कृष्ण और सुदामा शिक्षा ग्रहण कर रहे थे…
गुरुमाता को लगा कि कोई आश्रम के अन्दर आया है। गुरुमाता देखने के लिए आगे बढीं तो चोर समझ गये कि कोई आ रहा है,
चोर डर गये और आश्रम से भागे ! भागते समय चोरों से वह पोटली वहीं छूट गयी। और सारे चोर भाग गये।
इधर भूख से व्याकुल ब्राह्मणी ने जब जाना कि उसकी चने की पोटली चोर उठा कर ले गये तो ब्राह्मणी ने श्राप दे दिया कि मुझ दीनहीन असहाय के चने जो भी खायेगा वह दरिद्र हो जायेगा।
उधर प्रात:काल गुरु माता आश्रम मे झाडू़ लगाने लगीं तो झाडू लगाते समय गुरु माता को वही चने की पोटली मिली ।
गुरु माता ने पोटली खोल कर देखी तो उसमे चने थे।
सुदामा जी और कृष्ण भगवान जंगल से लकडी़ लाने जा रहे थे। (रोज की तरह) गुरु माता ने वह चने की पोटली सुदामा जी को दे दी।
और कहा बेटा, जब वन मे भूख लगे तो दोनो लोग यह चने खा लेना।
सुदामा जी जन्मजात ब्रह्मज्ञानी थे। ज्यों ही चने की पोटली को सुदामा जी ने हाथ में लिया त्यों ही उन्हे सारा रहस्य मालुम हो गया।
सुदामा जी ने सोचा गुरु माता ने कहा है यह चने दोनों लोग बराबर बाँट के खाना लेकिन ये चने अगर मैंने त्रिभुवनपति श्री कृष्ण को खिला दिये तो सारी सृष्टि दरिद्र हो जायेगी।
नहीं-नहीं मैं ऐसा नही करुँगा। मेरे जीवित रहते मेरे प्रभु दरिद्र हो जाये मै ऐसा कदापि नही होने दूँगा।
मैं ये चने स्वयं खा जाऊँगा लेकिन कृष्ण को नहीं खाने दूँगा और सुदामा जी ने सारे चने खुद खा लिए।
दरिद्रता का श्राप सुदामा जी ने स्वयं ले लिया। चने खाकर। लेकिन अपने मित्र श्री कृष्ण को एक भी दाना चना नही दिया। ऐसे होते हैं मित्र…
मित्रों! आपसे निवेदन है कि अगर मित्रता करें तो सुदामा जी जैसी करें और कभी भी अपने मित्रों को धोखा ना दें..

☘🌱☘🌱☘🌱☘🌱☘🌱☘

2 Likes · 617 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
पल
पल
Sangeeta Beniwal
वर्तमान लोकतंत्र
वर्तमान लोकतंत्र
Shyam Sundar Subramanian
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
हाइकु haiku
हाइकु haiku
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अधरों ने की  दिल्लगी, अधरों  से  कल  रात ।
अधरों ने की दिल्लगी, अधरों से कल रात ।
sushil sarna
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
🌱कर्तव्य बोध🌱
🌱कर्तव्य बोध🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
सुस्ता लीजिये - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
जानते वो भी हैं...!!!
जानते वो भी हैं...!!!
Kanchan Khanna
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ अब सब समझदार हैं मितरों!!
■ अब सब समझदार हैं मितरों!!
*Author प्रणय प्रभात*
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*मोती (बाल कविता)*
*मोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...