Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ज़माने तेरी मिह्रबानी नहीं हूँ

शजर हूँ, तिही इत्रदानी नहीं हूँ
चमन का हूँ गुल मर्तबानी नहीं हूँ

ख़रा हूँ कभी भी मुझे आज़मा लो
उतर जाने वाला मैं पानी नहीं हूँ

ग़ज़ल हूँ, वही जो लबों पर है सबके
किताबों में खोई कहानी नहीं हूँ

मुझे याद रखना है आसान यूँ भी
हक़ीक़त हूँ झूठी बयानी नहीं हूँ

मैं ग़ाफ़िल हूँ गर तो है मर्ज़ी मेरी ही
ज़माने तेरी मिह्रबानी नहीं हूँ

-‘ग़ाफ़िल’

147 Views
You may also like:
शहर को क्या हुआ
अनामिका सिंह
✍️जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
आपातकाल
Shriyansh Gupta
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
ग़ज़ल
kamal purohit
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
पक्षियों से कुछ सीखें
Vikas Sharma'Shivaaya'
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिव शम्भु
अनामिका सिंह
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
बदल रहा है देश मेरा
अनामिका सिंह
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
अनामिका सिंह
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
पिता
Neha Sharma
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
"अशांत" शेखर
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार
अनामिका सिंह
Loading...