Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

कब किसी के कहे से रुकी ज़िन्दगी,
छलछलाती नदी सी बही ज़िन्दगी।

लफ्ज दर लफ्ज़ मिलती नई साँस अब,
शायरी शौक से हो गई ज़िन्दगी।

दी मुहब्बत इसे उम्र सारी मगर,
हो गई मौत की बस सगी ज़िन्दगी।

ए खुदारा भला कौन करता अलग,
जो कि भगवा, हरे में बँटी ज़िन्दगी।

साथ तेरे थी महकी गुलों सी कभी,
खार बनकर ही अब वो चुभी ज़िन्दगी।

हल तलाशा किये हर नफ़स हम मगर,
इक पहेली अबूझी रही ज़िन्दगी।

वो खड़े हैं लहद पे लिए चश्मे तर,
ए खुदा बख़्श दे दो घड़ी ज़िन्दगी।

हल तलाशा किये हर नफ़स हम मगर,

है कफ़स में गमों की ‘शिखा’कैद पर,
तुमको देखा तो खुलकर हँसी ज़िन्दगी।

दीपशिखा सागर-

400 Views
You may also like:
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
शेर
Shriyansh Gupta
हम भी क्या दीवाने हुआ करते थे
shabina. Naaz
Education
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
विचार
मनोज शर्मा
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
“ खून का रिश्ता “
DrLakshman Jha Parimal
रे मेघा तुझको क्या गरज थी
kumar Deepak "Mani"
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
मानकर जिसको अपनी खुशी
gurudeenverma198
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
माँ कात्यायनी
Vandana Namdev
सुनो मुरलीवाले
rkchaudhary2012
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत के बेटे
Shekhar Chandra Mitra
✍️तकदीर-ए-मुर्शद✍️
'अशांत' शेखर
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
जन्मदिवस का महत्व...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
"मेरी दुआ"
Dr Meenu Poonia
Advice
Shyam Sundar Subramanian
★सफर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*ऋषिकेश यात्रा 16 ,17 ,18 अप्रैल 2022*
Ravi Prakash
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
माँ
Dr Archana Gupta
Loading...