Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2016 · 2 min read

ग़ज़ल

आँखो से ही कह दो जानम, गुप् चुप ही इक़रार करो,
हमने कब ये माँगा तुमसे, चाहत को अखबार करो।

शीशे का जो दिल रक्खोगे, चूर चूर हो जाएगा,
इस ज़ालिम दुनिया के आगे, दिल को पत्थर यार करो।

खूब लिखा सपनो को अब तक, प्रेम कसीदे पढ़े कई,
अब तो खूने दिल से अपने, लफ़्ज़ों का श्रृंगार करो।

प्यार किसे कहते हैं यारा, खुद अहसास तुम्हे होगा,
इक वादे पर कच्चा घड़ा ले, जो तुम नदिया पार करो।

बहुत सुलह की बात हो चुकी, धीरज बहुत धरा अब तक
पानी सिर से ऊपर पहुँचा, आर करो या पार करो।

खिड़की से देखा है जितना , उतना ही आकाश मिला,
बेटी चीख चीख कर कहती, अब इसका विस्तार करो।

कैस डरा कब बोलो है या, लैला ने बंदिश मानी,
जान भी देकर यही सिखाया, प्यार करो बस प्यार करो।

सदियाँ गुज़री मज़लूमो को, मिला नही कोई हक़ भी,
जिम्मेदारी बनती अपनी, कुछ तो अब सरकार करो।

जिस पौधे को सींचा तुमने फल वो औरों को देगा,
उम्मीदें मत रक्खो उससे , सच ये बस स्वीकार करो।

लहू रगों में बलिदानी है, व्यर्थ बहाओ इसको मत,
टूट पड़ो अब आतंकी पर, खुद को इक तलवार करो।

किस मज़हब ने तुम्हे सिखाया, नफरत की खेती करना,
किस पुस्तक में लिखा हुआ है, लाशों का व्यापार करो।

चौराहो पर लुटी हमेशा, दांव लगी चौसर पे हो
नारी तुमसे अब विनती है,खुलकर तुम प्रतिकार करो।

तन्दूरो की आग सिसकती, तेज़ाबी बोतल कहती,
शर्म करो आदम के बच्चे, इंसा बन व्यवहार करो।

अहसासो ने ली अंगड़ाई, भाँवर पड़ी उम्मीदों की
ब्याह रचा है सपन ‘शिखा’ अब, दिल डोली तैयार करो

3 Comments · 325 Views
You may also like:
गुदडी के लाल, लालबहादुर शास्त्री
Ram Krishan Rastogi
■ लघु कविता / एक कप चाय
*Author प्रणय प्रभात*
पल पल बदल रहा है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
గురువు
विजय कुमार 'विजय'
✍️✍️उलझन✍️✍️
'अशांत' शेखर
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
करीम तू ही बता
Satish Srijan
अदब से।
Taj Mohammad
बगावत का आगाज़
Shekhar Chandra Mitra
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
आँखों में प्यार बसाओ।
Buddha Prakash
बारिश की ये पहली फुहार है
नूरफातिमा खातून नूरी
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
मिलन याद यह रखना
gurudeenverma198
किया है तुम्हें कितना याद ?
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*हिंदुत्व 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
पढ़ना लिखना बहुत ज़रूरी
Dr Archana Gupta
💐योगं विना मुक्ति: नः💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लालच
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
टुलिया........... (कहानी)
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
Book of the day: ख़्वाबों से हकीकत का सफर
Sahityapedia
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
Advice
Shyam Sundar Subramanian
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
क्षमा
Saraswati Bajpai
Loading...