Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2020 · 1 min read

ग़ज़ल

वो जो कहते थे कि तुम ना मिले तो ज़हर मुझे पीना होगा
खुश हैं वो कहीं और अब तो उनके बगैर ही जीना होगा

चोट नहीं लगी है दिल पे चीरा लग गया है मेरे दोस्त
सह लूंगा दर्द मगर इस दिल को उनको ही सीना होगा

इश्क़ बहुत था उनको हमसे लेकिन मजबूर थे वो
लगता है शादियों के संग ही बेवफ़ाई का महीना होगा

संभाल कर रखा था हमने उन्हें रूह की गहराइयों में
ज़रा सोचो किस अदा से खुद को उन्होंने हमसे छीना होगा

अश्क़ आंखों से टपक पड़े गालों पर कल जो देखा उनको
और उन्होंने समझा मेरे माथे से लुढ़का पसीना होगा

………………..

:- आलोक कौशिक

संक्षिप्त परिचय:-

नाम- आलोक कौशिक
शिक्षा- स्नातकोत्तर (अंग्रेजी साहित्य)
पेशा- पत्रकारिता एवं स्वतंत्र लेखन
साहित्यिक कृतियां- प्रमुख राष्ट्रीय समाचारपत्रों एवं साहित्यिक पत्रिकाओं में दर्जनों रचनाएं प्रकाशित
पता:- मनीषा मैन्शन, जिला- बेगूसराय, राज्य- बिहार, 851101,
अणुडाक- devraajkaushik1989@gmail.com

2 Likes · 2 Comments · 298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राष्ट्र हित में मतदान
राष्ट्र हित में मतदान
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
अपने
अपने
Adha Deshwal
काम न आये
काम न आये
Dr fauzia Naseem shad
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
किसी के प्रति
किसी के प्रति "डाह"
*प्रणय प्रभात*
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
Taj Mohammad
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
Neeraj Agarwal
पिता
पिता
Dr Manju Saini
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
"गुनाह कुबूल गए"
Dr. Kishan tandon kranti
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
चॉकलेट
चॉकलेट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रमेशराज के दो मुक्तक
रमेशराज के दो मुक्तक
कवि रमेशराज
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
*एक (बाल कविता)*
*एक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
शिव तेरा नाम
शिव तेरा नाम
Swami Ganganiya
Loading...