Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (वक़्त की रफ़्तार)

ग़ज़ल (वक़्त की रफ़्तार)

वक़्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं
कल तलक था जो सुहाना कल वही विकराल हो

इस तरह से आज पग में फूल से कांटे चुभे हैं
चाँदनी से खौफ लगता ज्यों कालिमा का जाल हो

ये किसी की बदनसीबी गर नहीं तो और क्या है
याद आने पर किसी का हाल जब बदहाल हो

जो पास रहकर दूर हैं और दूर रहकर पास हैं
करते गुजारिश हैं खुदा से, मौत अब तत्काल हो

चंद लम्हों की धरोहर आज अपने पास है बस
ब्यर्थ से लगते मदन अब मास हो या साल हो

ग़ज़ल (वक़्त की रफ़्तार)
मदन मोहन सक्सेना

199 Views
You may also like:
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
गांव के घर में।
Taj Mohammad
तेरे होने का अहसास
Dr. Alpa H. Amin
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
शुभचिंतक, एक बहन
Dr.sima
मोहब्बत।
Taj Mohammad
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
शेर
dks.lhp
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Mamta Rani
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरी नेकियां।
Taj Mohammad
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
Loading...